पेज-16

.................

मीट मार्केट के पुराने ढांचे को तोड़कर नया भवन बनेगा

- शासन से मंजूर हुए 1.31 करोड़ रुपए

सागर। नवदुनिया प्रतिनिधि

शहर में खुले में मीट और मछली बेचने पर रोक लगाने का तोड़ सरकार के माध्यम से विधायक शैलेंद्र जैन ने निकाल लिया है। अब तिलकगंज वार्ड स्थित माल गोदाम रोड पर मार्केट के पुराने ढांचे को तोड़कर नए कवर्ड भवन का निर्माण किया जाएगा। भवन के निर्माण के लिए शासन ने विधायक की पहल पर 1 करोड़ 31 लाख रुपए का बजट मंजूर कर दिया है।

चर्चा तो यह है कि जिला प्रशासन, नगर निगम और विधायक जैन के प्रयासों के बाद भी तिलकगंज वार्ड स्थित मीट मार्केट में सालों से मीट का कारोबार करने वाले लोग वहां से दूसरे स्थान पर जाना नहीं चाहते। उनके विस्थापन के लिए जिला प्रशासन पूर्व में दूसरी जगह चि-ति कर चुका है, लेकिन वे वहां शिफ्ट होना नहीं चाहते। शहर में खुले में चल रही मीट की दुकानों को बंद कराने की मांग को लेकर अवैध मांस व्यवस्थापन समिति शहर में दो माह से अधिक समय से आंदोलन चला रही है। तय समय अवधि 15 मार्च तक प्रशासन द्वारा कार्रवाई न किए जाने से समिति से जुड़े 40 संगठनों ने आंदोलन उग्र करने की चेतावनी प्रशासन को दी थी।

विधायक जैन ने इसे गंभीरता से लेते हुए मंगलवार को विधानसभा में इस मामले को उठाया। बाद में मुख्यमंत्री से भेंटकर शहर में चल रहे आंदोलन से अवगत कराते हुए भवन निर्माण के लिए राशि की मांग की। विधायक जैन ने बताया कि मुख्यमंत्री ने मीट मार्केट स्थल पर नए भवन निर्माण के लिए 1 करोड़ 31 लाख रुपए की राशि मंजूर की है।

निगम में मामला अटका था

तिलकगंज वार्ड स्थित मीट मार्केट में कवर्ड बिल्डिंग निर्माण के लिए एक साल पहले डीपीआर और नक्शा बनकर तैयार हो गया था, लेकिन नगर निगम में बजट के अभाव के कारण भवन का निर्माण नहीं हो सका। निगम के एक इंजीनियर का कहना है कि समस्या यह आ रही थी कि भवन को किस मद में बनाया जाए। अब शासन ने मीट मार्केट भवन निर्माण के लिए राशि मंजूर की है, ऐसी जानकारी मिली है। नगरीय प्रशासन विभाग से बजट आवंटन पत्र मिलने और निगम की जनरल बॉडी में प्रस्ताव पास होने के बाद भवन निर्माण का काम शुरू होगा। इस प्रक्रिया में दो से तीन महीने का समय और लग सकता है।

भवन जर्जर, दुकानें बाहर

मीट मार्केट भवन का निर्माण 25 साल पहले नगर निगम द्वारा कराया गया था। बिल्डिंग में लायसेंसी मीट विक्रेताओं के अलावा अन्य लोगों को दुकानें आवंटित की गई थीं। रखरखाव के अभाव में भवन जर्जर हो गया। मार्केट में लगने वाली दुकानें सड़क किनारे लगने से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। मार्केट में वर्ग विशेष के लोग यह कारोबार करते हैं। उनका कहना था कि प्रदेश में खुले में मीट कहां नहीं बिकता। शासन पहले उन्हें हटाए बाद में हम लोग हट जाएंगे।

.....................

फोटो 1403 एसए 6- सागर। तिलक गंज वार्ड स्थित मीट मार्केट का जर्जर भवन।

---------------------