केसली (नप्र)। स्वास्थ्य कर्मियों की हड़ताल के चलते बधाों का समय पर टीकाकरण नहीं हो पा रहा है। इससे बधो खतरनाक बीमारी की चपेट में आ सकते हैं। लोगों का कहना है कि यदि बधाों को हेपेटाइटिस बी, टाइफाइड निमोनिया, बड़ी माता, खसरा, डिप्थीरिया, काली खांसी के टीके नहीं लगे तो बधाों की जान से भी खिलवाड़ है। ऐसे में शासन को चाहिए कि हड़ताल के चलते टीकाकरण की वैकल्पिक व्यवस्था की जाए।