पूजन सामग्री विसर्जित करने गए थे इमलिया गांव के बच्चे

- मंत्री गोपाल भार्गव ने परिजनों से मिलकर दी सांत्वना

सागर,रहली । नवदुनिया

रविवार दोपहर रहली क्षेत्र के इमलिया गांव में एक परिवार के दो चिराग बुझ गए। गांव के तीन बच्चे पूजा सामग्री विसर्जित करने सुनार नदी गए थे। नदी में गहरे पानी में एक दूसरे का बचाने के प्रयास में तीनों बच्चों की पानी में डूबने से मौत हो गई। इस घटना से परिवार में मातम छा गया। पंचायत मंत्री गोपाल भार्गव ने स्वास्थ केंद्र जाकर मृतक बच्चों के परिजनों के प्रति शोक संवेदना व्यक्त की।

घटना शाम 4.30 बजे की है। पुलिस के मुताबिक इमलिया गांव निवासी रामगोपाल उम्र 10 साल, अपने भाई अभय पिता रूपसिंह राजपूत दोनों सगे भाई हैं। अपने रिश्तेदार अभिषेक पिता भूपेंद्र सिंह ठाकुर के साथ सुनार नदी पूजन सामग्री विसर्जन करने गए थे। तीनों बालक पूजन सामग्री नदी में विसर्जित करने पानी में उतरने लगे। इनमें से एक बालक डूबने लगा। उसे बचाने के लिए दोनों बालक नदी में उतरे एक-दूसरे का हाथ पकड़ने के प्रयास में उनकी पानी में डूबने से मौत हो गई। देर शाम तक तीनों बच्चे घर नहीं पहुंचे तो परिजनों ने नदी पर आकर देखा तो उनके कपड़े व चप्पल रखी थी। संदेह होने पर नदी में तलाश की गई। घाट से कुछ दूरी पर तीनों बच्चों के शव मिल गए।

अभिषेक इमलिया गांव में नाना के घर रहता था। दमोह जिले के हटा के निमारमुड़ा गांव का रहना वाला था। दो भाईयों की एक साथ मौत से उनके मां-बाप का रो-रोकर बुरा हाल हो गया। एसडीओपी दीपक नायक पुलिस के साथ मौके पर पहुंचे। पंचनामा कार्रवाई कर शवों का पोस्टमार्टम कराकर परिजनों को सौंप दिए।

---------------------------

फोटो नंबर 1208 एसए 34 गढ़ाकोटा। स्वास्थ्य के ्रंद्र के बाहर मृतक बच्चों के परिजनों से चर्चा करते पंचायत मंत्री गोपाल भार्गव।