चित्रकूट। सनसनीखेज गंगा-कावेरी एक्सप्रेस ट्रेन डकैती कांड का पर्दाफाश कर पुलिस ने यूपी-एमपी के छह डकैतों को दबोच लिया। उनके कब्जे से लाखों के जेवरात, नकदी, असलहे, चाकू और स्कूटी बरामद हुई है। वारदात के मास्टरमाइंड लूलू व एक रेलकर्मी समेत नौ शातिर अभी फरार हैं।

आइजी रेलवे इलाहाबाद बीआर मीणा, एसपी जीआरपी झांसी क्षेत्र पीके मिश्रा व एसपी चित्रकूट मनोज कुमार झा ने बुधवार को मानिकपुर जंक्शन रेलवे स्टेशन पर पत्रकार वार्ता में बताया कि दो सितंबर की देर रात 1.30 बजे चेन्न्ई से छपरा जाने वाली गंगा-कावेरी एक्सप्रेस में चित्रकूट के पनहाई रेलवे स्टेशन के पास सिग्नल में छेड़छाड़ व चेन पुलिग कर डकैती डाली गई थी।

घटना को अंजाम देने में अंतरराज्यीय लूलू गैंग की संलिप्तता मिलने पर आधा दर्जन पुलिस टीमों ने चित्रकूट के मानिकपुर, इलाहाबाद, सतना, जबलपुर, महाराष्ट्र के नागपुर में छापेमारी कर डकैतों को पकड़ा। गैंग उत्तर प्रदेश के साथ महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, तमिलनाडु में ट्रेनों में लूटपाट करता है। फरार शातिरों को जल्द पकड़ा जाएगा। घटना का पर्दाफाश करने वाली पुलिस टीमों को आइजी रेलवे ने 50 हजार व एसपी रेलवे ने 25 हजार रुपये इनाम देने की घोषणा की है।


ये माल बरामद

एक तमंचा 315 बोर व चार कारतूस, चार चाकू, सोने का एक मंगलसूत्र, चार लॉकेट, एक अंगूठी, एक सोने का बिस्कुट समेत तीन लाख के जेवरात, एक लाख रुपये नकदी और एक एक्टिवा स्कूटी।


हत्थे चढ़े ये डकैत

1- नसीमुद्दीन उर्फ चिन्नू निवासी महावीर नगर, थाना मानिकपुर, चित्रकूट।

2- भीम आरख निवासी डभौरा, रीवां, मध्य प्रदेश।

3- शिव कुमार उर्फ लकी निवासी मुटियान टोला, शंकरगढ़, इलाहाबाद।

4- चिटू दादा उर्फ गरुण सिंह निवासी सरोई, रीवां, मध्य प्रदेश।

5- लाला उर्फ शिव प्रसाद निवासी बरगढ़, चित्रकूट।

6- लाल चंद्र सोनी निवासी शंकरगढ़, इलाहाबाद।


ये अभी फरार

मास्टरमाइंड दीपक पटेल उर्फ लूलू निवासी बरगढ़ (चित्रकूट), मुन्ना सिह, शीलू, आदित्य कुमार और रेलवे प्वाइंट मैन कुबेर सिह समेत चार अन्य अज्ञात।