सतना। मप्र लघु वेतन कर्मचारी संघ के बैनर तले जनजातीय कार्य विभाग के स्थाई कर्मियों की 5 सूत्रीय समस्याओं के निराकरण किए जाने की मांग को लेकर कलेक्टर कार्यालय के समक्ष की जा रही क्रमिक भूख हड़ताल चौथे दिन रविवार को भी जारी रही। चौथे दिन संघ के कार्यकारी अध्यक्ष शिवचरण कुशवाहा ने सूरज प्रसाद वर्मा एवं राकेश कुमार चौधरी को मार्ल्यापण कर क्रमिक भूख हड़ताल पर बैठाया। अनशन स्थल पर उपस्थित कर्मचारियों ने जनजातीय कार्य विभाग के जिला संयोजक के खिलाफ नारेबाजी करते हुए अपनी आवाज बुलंद की। इस मौके पर संघ के जिला अध्यक्ष रमाकांत मिश्रा ने उपस्थित कर्मचारियों को संबोधित करते हुए कहा कि जनजातीय विभाग का जिला संयोजक कर्मचारियों के हक में डाका डालने का काम कर रहा है। श्री मिश्रा ने आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा कि जिला संयोजक कर्मचारियों के धैर्य की परीक्षा न ले अन्यथा परिणाम गंभीर होंगे। कार्यकारी अध्यक्ष शिवचरण कुशवाहा एवं कोषाध्यक्ष विनोद सेन ने जिला संयोजक के कर्मचारी विरोधी नीतियों की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए कहा कि अभी हम लोग शांति पूर्वक गांधीवादी तरीके से आंदोलन चला रहे है। यदि आंदोलन को गंभीरता से नहीं लिया गया तो आंदोलन को उग्र करते हुए दूसरा रास्ता अपनाएंगे। जिसकी संपूर्ण जवाबदेही जिला संयोजक की होगी। इसी क्रम में जनजातीय कार्य विभाग की अध्यक्ष विमला वर्मा, ममता चौधरी, पंकज साकेत, विमला पटेल ने भी संबोधित करते हुए कहा कि जिला संयोजक एवं स्थापना लिपिक द्वारा कर्मचारियों को आर्थिक एवं मानसिक रूप से प्रताड़ित कर रहे है।