शाजापुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। मप्र के आगर व आलीराजपुर समेत देश में 25 नए कृषि विज्ञान केंद्र खुलने वाले हैं। 16 एवं 17 मार्च को नई दिल्ली में आयोजित दो दिवसीय कार्यक्रम के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी इनका ऑनलाइन शुभारंभ करेंगे। दिल्ली में आयोजित सम्मेलन में शाजापुर कृषि विज्ञान केंद्र के प्रमुख भी शामिल होंगे। वर्ष 2013 में शाजापुर से अलग होकर नया जिला बने आगर को भी यह सुविधा मिलेगी। इससे किसानों को अब खेती-किसानी संबंधी समस्याओं के लिए शाजापुर आने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

शाजापुर व आगर दोनों जिले करीब 5 साल पहले ही अलग हो चुके हैं। दो-तीन विभागों को छोड़कर सभी के जिला मुख्यालय व जिला अधिकारी अलग-अलग हैं लेकिन कृषि विज्ञान केंद्र के मामले में अब तक कार्यक्षेत्र एक ही जिले से होता रहा है। ग्राम गिरवर स्थित कृषि विज्ञान केंद्र से शाजापुर जिले के साथ ही आगर जिले की कृषि संबंधी समस्याओं को हल किया जाता है, लेकिन अब आगर के किसानों को उनके जिले में ही केवीके की सौगात मिलने वाली है।

जानकारी के अनुसार 16 एवं 17 मार्च को भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान नई दिल्ली द्वारा कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है। जिसमें देशभर में स्थित 681 कृषि विज्ञाान केंद्रों के प्रमुख भाग लेंगे। इस दो दिवसीय सम्मेलन में कृषि मेला भी लगेगा। यहां पर शाजापुर कृषि विज्ञान केंद्र के समन्वयक डॉ. जीआर अंबावतिया भी शामिल होने के लिए रवाना होंगे।

वैज्ञानिकों की पदस्थापना हुई

नई दिल्ली में आयोजित दो दिवसीय सम्मेलन में पूरे देश के 25 नए खुलने जा रहे केंद्रों का शुभारंभ किया जाएगा। पीएम नरेद्र मोदी ऑनलाइन इसकी शुरुआत करेंगे। इसमें मप्र के आगर व आलीराजपुर जिले में दो नए केवीके की सौगात मिलेगी। आगर जिले में खुलने वाले नए केवीके के लिए कृषि वैज्ञानिक की पदस्थापना भी हो चुकी है। नए केवीके भवन के निर्माण के लिए कवायद चल रही है। वहीं फिलहाल शासकीय किसी भवन में केवीके संचालित किया जाएगा।

यह होगा लाभ

शाजापुर व आगर जिला कृषि प्रधान है। दोनों जिले में किसानों को खेती संबंधी सलाह शाजापुर में पदस्थ कृषि वैज्ञानिकों द्वारा दी जाती है, लेकिन फसल संबंधी समस्याएं एकसाथ आने पर दोनों जिले में सभी जगह भ्रमण में समस्याएं आती हैं। वहीं आगर जिले के किसानों को व्यक्तिगत फसल संबंधी समस्या या रोग के बारे में पूछना होता है तो उन्हें शाजापुर तक आना पड़ता है। जबकि शाजापुर स्थित केवीके में पहले ही तय स्टाफ से कम वैज्ञानिक हैं। ऐसे में अब आगर जिले में ही कृषि विज्ञान केंद्र खुलने से उस क्षेत्र के किसानों को काफी लाभ होगा।

17 को प्रसारित होगा पीएम का संदेश

सम्मेलन के दौरान 17 मार्च को पीएम के संदेश का ऑनलाइन प्रसारण शाजापुर स्थित केवीके में देखने की व्यवस्था की जाएगी। एलईडी के माध्यम से यहां आने वाले किसान इसे लाइव देख सकेंगे। केवीके द्वारा इसकी व्यवस्था की जाएगी। यहां बड़ी संख्या में किसानों को भी बुलाया गया है।