-शांति समिति की बैठक में मुख्य मार्ग पर अतिक्रमण का मुद्दा छाया रहा

कालापीपल मंडी। नगर के सबसे व्यस्ततम मार्ग रेलवे स्टेशन से पंचमुखी हनुमान मंदिर चौराहे तक दुकानदारों द्वारा सड़क पर सामान रखकर किया गया अतिक्रमण हटाया जाएगा ताकि नगर की यातायात व्यवस्था सुचारु हो सके

बुधवार को आगामी त्यौहारों के मद्देनजर शांति समिति की बैठक पुलिस थाना कालापीपल परिसर में अपरान्ह 4 बजे आयोजित की गई। इसमें गणेश उत्सव, मोहर्रम, डोल ग्यारस पर्व की व्यवस्थाओं को लेकर चर्चा की गई। अनुविभागीय अधिकारी पुलिस शुजालपुर सीताराम अवास्या ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट के अनुसार डीजे पर पूर्णतः प्रतिबंध है। उन्होंने रैली एवं कार्यक्रमों के लिए मिलने वाली अनुमति की भी जानकारी दी। थाना प्रभारी दिनेश प्रजापति ने जानकारी दी कि इस बार गणेश उत्सव के दौरान स्थापना स्थल पर किसी प्रकार की अप्रिय स्थिति न बने इसके लिए झांकियों में रात्रि को एक सदस्य अनिवार्य रूप से सोए जिसके पुलिस रात्रि में गश्त के रजिस्टर पर हस्ताक्षर करवाएगी । बैठक के दौरान सदस्यों ने नगर में शांतिपूर्ण एवं हर्षोल्लास से सभी धर्मों के पर्व मनाने की जानकारी अधिकारियों को दी। इस दौरान मुख्य मार्ग पर बढ़ते अतिक्रमण का मुद्दा भी उछला। सदस्यों ने दुकानदारों द्वारा सामान सड़क पर रखकर एवं जैन मंदिर चौराहे पर नर्बदा झाबुआ ग्रामीण बैंक के सामने ग्राहकों द्वारा मोटरसाइकिल खड़ी करने से लगने वाले जाम एवं लोगों को निकलने में होने वाली परेशानी की जानकारी दी। मुख्य नगर पालिका अधिकारी सोनाली नारेड़ा ने कहा कि नगर में मुनादी करवाकर दुकानदारों को दुकान के सामने रखा सामान हटाने के लिए पांच दिन का समय दिया जाएगा। इसके बाद पुलिस एवं नगर परिषद का अमला रविवार से सख्ती से दुकानदारों द्वारा किए गए अतिक्रमण को हटाएगा। तहसीलदार राजाराम करजरे ने बताया कि किसी प्रकार की रैली निकालने के लिए कम से कम चार से पांच दिन पूर्व अनुमति के लिए उनके पास आवेदन दे दें ताकि वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया जा सके एवं आयोजकों को भी अनुमति लेने में परेशानी नही हो। बैठक में अधिकारियों ने आगामी चुनाव के मद्देनजर लगने वाली आचार संहिता पर भी राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों से चर्चा की एवं सभा स्थल, सार्वजनिक स्थलों पर लगे होर्डिंग आदि के बारे में जानकारी दी। बैठक में सड़क पर बैठने वाले आवारा मवेशियों के कारण होने वाली परेशानियों पर भी विचार-विमर्श किया गया। इस अवसर पर जनप्रतिनिधि, गणेश उत्सव समिति के सदस्य एवं नगरवासी मौजूद थे।