श्योपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

कठुआ में आठ साल की मासूम आसिफआ की गैंगरेप और निर्मम हत्या पर पूरे देश के साथ श्योपुर में भी लोग आक्रोश में है। लोगों का यह गुस्सा मंगलवार की शाम कैंडल मार्च के रूप में दिखा। एसडीपीआई की अगुआई मं 100 से ज्यादा महिला-बालिकाओं के साथ युवा व बुजुर्गो ने करीब एक किमी का कैंडल मार्च निकाला और फिर जयस्तंभ पर पीड़िता आसिफा को श्रद्घांजलि दी।

शाम 07 बजे किला रोड, गर्ल्स स्कूल के सामने महिला, बच्चियां, युवा व बुजुर्ग जुटना शुरू हुआ। महिलाओं ने हाथों में जलती हुई मोमबत्ती थामी तो बालिका व युवाओं ने गैंगरेप के बाद मार दी गई आफिसा को न्याय दिलाने के नारे व श्रद्घांजलि लिखी तख्तियां थामी। दोषियों को फांसी की सजा दिए जाने के नारे लगाते हुए कैंडल मार्च मुख्य बाजार, गांधी चौक होते हुए यह जयस्तंभ पर पहुंचा। जयस्तंभ पर आसिफा के तस्वीर के सामने मोमबत्तियां जलाकर सभी ने उसे नम आंखों से श्रद्घांजलि दी। इस दौरान एसडीपीआई जिला अध्यक्ष नजम इकबाल, इंसाफ कुरैशी, समाजसेवी डॉ. शहजाद आदि मौजूद थे।

फोटो : 18

कैप्शन : कैंडल मार्च में शामिल महिला व बच्चे।