श्योपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

विगत 4 सालों में केंद्र की मोदी सरकार ने जो अनीतिगत निर्णय लिए हैं उसमें तो हिटलरशाही को भी मात दे दी हैं। अपनी सरकार बनाने के लिए पहले राज्यपालों पर दवाब डालकर छोटे दल की भाजपा सरकार को आमंत्रित कर सरकार बनवाई अब बहुमत से दूर कर्नाटक में भाजपा को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित कर लिया हैं। संवैधानिक पदों पर बैठे राज्यपाल जैसे महामहिमों से ऐसे काम कराना संविधान की हत्या कराने जैसा है। अब समय आ गया है कि, संविधान बचाने के लिए हर नागरिक को आगे आना पड़ेगा। यह बात पूर्व विधायक एवं कांग्रेस जिलाध्यक्ष बृजराज सिंह चौहान ने जिला कांग्रेस कमेटी द्वारा गांधी पार्क पर आयोजित संविधान बचाव कार्यक्रम के दौरान दिए गए धरना प्रदर्शन के दौरान कहीं।

कर्नाटक में कांग्रेस, जेडीएस गठबंधन को सरकार बनाने के लिए जरुरी विधायक पूरे होने के बावजूद राज्यपाल द्वारा गठबंधन को सरकार बनाने का न्यौता देने के बजाए जरुरी विधायकों से दूर भाजपा को सरकार बनाने के लिए न्यौता देने से नाराज कांग्रेसियों ने दोपहर 12 बजे से 02 बजे तक जयस्तंभ पर धरना दिया। धरने के बाद रैली के रुप में कोतवाली पहुंचे कांग्रेसियों ने राष्ट्रपति के नाम एसडीएम आरबी सिंडोस्कर को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन सौंपने वालों में वरिष्ठ कांग्रेसी नेता भीमसेन शर्मा, पूर्व नपाध्यक्ष ओम राठौर, गिर्राज चौधरी, रामलखन हिरनीखेड़ा, रितेश तोमर, मो. साबिर, अतुल चौहान, संजीव कुशवाह, भोलानाथ चौहान, राजू तोमर, जुगल बंसल, यशप्रताप सिंह चौहान, सुजीत गर्ग, लक्ष्मी शिवहरे, शमीम खान, इंसाफ खान आदि कार्यकर्ता मौजूद थे।

कांग्रेस ने दिया रोजगार सहायकों के धरने को समर्थन

नियमितीकरण की मांग को लेकर जिला अस्पताल के सामने विरोध प्रदर्शन कर रहे रोजगार सहायकों के प्रदर्शन को समर्थन देने कांग्रेसियों ने धरना स्थल पर पहुंचकर धरना दिया। कांग्रेस जिलाध्यक्ष एवं पूर्व विधायक बृजराज सिंह चौहान ने रोजगार सहायकों की मांग को जायज बताते हुए उनकी लड़ाई में कांग्रेस के साथ होने का भरोसा दिलाया। उन्होंने कहा कि, कांग्रेस की सरकार आएगी तो पहले ऐसे ही कर्मचारी जो गांव में रहकर ग्रामीणों के लिए विकास की योजना बनाने और संचालित कराने में सहयोगी बने हुए हैं का स्थायीकरण कराएंगे। धरने पर पहुंचने वालों में भीमसेन शर्मा, रामलखन हिरनीखेड़ा, मो. साबिर रितेश तोमर, राजू तोमर आदि मौजूद थे।

फोटो :05

कैप्शन : राष्ट्रपति के नाम एसडीएम को ज्ञापन सौंपते कांग्रेसी।