सोंईकलां। नईदुनिया न्यूज

श्योपुर-पाली हाइवे पर ज्वालापुर गांव के मोड पर हुआ गड्ढा राहगीरों के लिए मुसीबत बना हुआ था। हाइवे पर हुआ यह गड्ढा एक फीट तक गहरा हो चुका था। गड्ढे में नालियों का पानी भरने से उसकी गहराई का अनुमान नहीं लगता। बस इसी कारण इस गड्ढे में हर रोज कई बाइक सवार गिरकर घायल होते हैं। एक महीने पहले तो इस गड्ढे ने हरियाणा के एक युवक की जान ले ली। बाइक पर आ रहा युवक ऐसा गिरा कि, मौके पर ही उसने दम तोड़ दिया। लगातार हो रहे हादसों को देख सोंई व ज्वालापुर के ग्रामीण बीते ढाई महीने से इस गड्ढे की मरम्मत की गुहार जनप्रतिनिधियों से लेकर अफसरों तक लगा चुके हैं। कई बार एमपीआरडीसी व पीडब्ल्यूडी के अफसरों को गड्ढे की मरम्मत के लिए ग्रामीण निवेदन कर चुके हैं लेकिन, किसी जिम्मेदार ने इस ओर ध्यान नहीं दिया। रोज हो रहे हादसों से ज्वालापुर गांव के युवा नौशाद खां, जमीन खां, कदीर मिर्जा, मुकेश भांवरिया और राजू मिर्जा ऐसे आहत थे कि, युवाओं ने खुद ही जर्जर सड़क की मरम्मत की ठानी। रायपुरा स्थित बाबा ईंट चिमनी के संचालक असलग बेग ने युवाओं के कहने पर एक ट्रॉली ईंट के टुकडे भिजवाए। इन ईंट के टुकड़ों को शुक्रवार को युवाओं ने अपने हाथों से गड्ढे में भरकर सड़क के समतल किया।

फोटो : 09, 10, 11

कैप्शन : हाइवे पर हुआ गड्ढा।

गड्ढे की मरम्मत करते युवा।

मरम्मत के बाद समतल हुआ गड्ढा।