- एक्सीलेंस स्कूलों में छात्रों को दिलाई जाने वाली ऑनलाइन कोचिंग की हो रही मॉनीटरिंग

श्योपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

छात्रों को प्रतियोगी परीक्षाओं के प्रति तैयार करने के उद्देश्य से एक्सीलेंस स्कूलों में शुरू कराई गई वर्चुअल क्लास लग रही हैं या नहीं। अगर लग रही हैं तो कितने समय लग रही हैं और कितने छात्रों को इसका लाभ मिल पा रहा है। इसकी पूरी मॉनीटरिंग हो रही है। यदि किसी स्कूल में इन वर्चुअल क्लासों के प्रति लापरवाही बरती जाएगी तो जिम्मेदार शिक्षकों पर कार्रवाई हो सकती है। जिसे लेकर विभाग के उच्चाधिकारियों ने वर्चुअल क्लास पर नजरें गढ़ाना शुरू कर दिया है। इन वर्चुअल कक्षाओं के माध्यम से स्कूली छात्रों को स्कूलों में ही प्री मेडिकल, प्री इंजीनियर जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराई जा रही है। जिसमें विषय विशेषज्ञ ऑनलाइन होकर प्रोजेक्टरों के माध्यम से छात्रों की कोचिंग लेते हैं। जिले में श्योपुर, विजयपुर और उत्कृष्ट स्कूल में वर्चुअल क्लास लगाई जा रही हैं। लेकिन कई बार छात्रों की कम अनुपस्थिति और समय पर लॉगिन नहीं होना सामने आ रहा है। इस तरह की समस्याओं को लेकर विभागीय अधिकारियों ने शिक्षाधिकारियों को वर्चुअल क्लासेस पर पूरा फोकस करने के लिए निर्देशित किया है। निर्देशों में कहा गया है कि वर्चुअल क्लास की मॉनीटरिंग उच्च स्तर पर की जा रही है। इसलिए इस काम को दिलचस्पी के साथ करें। वर्चुअल क्लास के लिए जहां समय से लॉगिन तक नहीं किया जाता वह सुधार करें। निर्देशों को देखते हुए यह कहा जा सकता है कि वर्चुअल कक्षाओं के प्रति स्कूलों में लापरवाही बरती गई तो जिम्मेदार शिक्षक या प्राचार्य पर कार्रवाई तय है।

बॉक्स

स्कूलों में उपलब्ध कराए गए हैं संसाधन

छात्रों को विशेषज्ञों के माध्यम से कोचिंग दिलाने के लिए विभागीय स्तर पर यह कॉन्सेप्ट संचालित किया जा रहा है। जो अभी सिर्फ उत्कृष्ट स्क्ूलों में ही संचालित है। इसके लिए विभागीय स्तर पर हर उत्कृष्ट स्कूल के लिए बड़ी एलईडी, प्रोजेक्टर, ऑडियो सिस्टम सहित अन्य सुविधाएं मुहैया कराई गई है। छात्रों को किसी तरह की कोई परेशानी नहीं आए इसलिए अगल से कमरे सेट किए गए हैं। लेकिन चिंतनीय बात ये है कि इन वर्चुअल कक्षाओं में जितने छात्रों की उपस्थिति होनी चाहिए उतनी नहीं होती। इसे देखते हुए छात्रों की संख्या बढ़ाए जाने पर भी दौर दिया गया है ताकि योजना का लाभ अधिक से अधिक छात्रों को मिल सके।

वर्जन

जिन स्कूलों में वर्चुअल क्लासेस संचालित की जा रही हैं उन पर पूरा फोकस है। तकनीकी समस्या आ जाए तो कह नहीं सकते नहीं तो वर्चुअल कक्षाएं लगातार चल रही है।

- अजय कटियार, डीईओ, श्योपुर