- मरने से पहले बोला-ऋण वसूली को लेकर बना रहे थे दबाव, की मारपीट

शिवपुरी। नईदुनिया प्रतिनिधि

दीवान हाउसिंग फाइनेंस एंड कार्पोरेशन लिमिटेड (डीएचएफएल) से मकान बनाने के लिए 9 लाख रुपए का होमलोन लेने वाले लोक निर्माण विभाग में हेल्पर के पद पर पदस्थ कर्मचारी राजेश पुत्र बंशीलाल ओझा निवासी गणेश कालोनी फतेहपुर शिवपुरी ने बुधवार की दोपहर शहर के हाजी सन्नू मार्केट स्थित कंपनी के कार्यालय के टॉयलेट में कर्ज प्रताड़ना से तंग आकर जहर गटककर जान दे दी। उसे गंभीर अवस्था में जिला अस्पताल ले जाया गया था, लेकिन हालत नाजुक होने के चलते ग्वालियर रेफर कर दिया गया, जहां रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। मरने से पहले राजेश ने अस्पताल में मीडिया के सम्मुख कहा कि लोन की किश्त बकाया होने को लेकर उस पर लंबे समय से दबाव बनाया जा रहा था। बुधवार को कंपनी के अधिकारी की मौजूदगी में प्रदीप सेंगर ने उसके साथ मारपीट भी की और 50 हजार रुपए की मांग भी कर रहा था। इसके चलते उसने जहर खा लिया। पुलिस ने मृतक के बयानों के आधार पर मामले की विवेचना शुरू कर दी है, हालांकि डीएचएफएल के स्थानीय अधिकारी जयेश फड़नीस किसी भी प्रकार के दबाव डालने की बात से इंकार कर रहे हैं। उन्होंने कार्यालय में जहर खाने की बात को स्वीकार किया हैं। फड़नीस ने प्रदीप के कंपनी से जुड़े होने की बात से इंकार किया, लेकिन सूत्रों के अनुसार वह कंपनी का ही कोई गुर्गा है, जिसका उपयोग जबरन बसूली के लिए किया जाता था।

यह बोले टीआई

लोनिवि के कर्मचारी राजेश ओझा ने डीएचएफएल से फाइनेंस कराया था। इसकी रिकवरी के लिए दबाव बनाया जा रहा था। इसके चलते राजेश ने कंपनी के कार्यालय में जहर गटक लिया और उसकी मौत हो गई। इस मामले में किसी प्रदीप सेंगर का नाम प्रताड़ना को लेकर सामने आ रहा है, केस दर्ज कर विवेचना शुरू कर दी है।

संजय मिश्रा, टीआई कोतवाली शिवपुरी।

----------