धनंजय प्रताप सिंह, भोपाल। कलयुग के राजा भगवान जगन्नाथ की जगदीश यात्रा के मुहूर्त पर इस साल शनिवार को महाकाल महाराज की नगरी उज्जैन से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भाजपा की जन-आशीर्वाद रथयात्रा का शुभारंभ कर रहे हैं। हर साल आषाढ़ महीने की द्वितीया तिथि को भगवान जगन्‍नाथ प्रजा का हाल जाने के लिए रथयात्रा पर निकलते हैं।

प्रदेश में चौथी बार सत्ता में काबिज होने के लिए भाजपा ने शुभ मुहूर्त में मुख्यमंत्री चौहान की रथयात्रा की शुरुआत के लिए पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को आमंत्रित किया है। 55 दिन चलने वाली सीएम की इस यात्रा का समापन भोपाल में 25 सितंबर को कार्यकर्ता महाकुंभ में होगा। इसमें पांच लाख कार्यकर्ता शामिल होंगे। रथयात्रा को प्रदेश के सभी 230 विधानसभा क्षेत्रों में ले जाकर आम लोगों से रूबरू कराने की योजना पार्टी ने बनाई है।

पुराणों में मान्यता है कि कलयुग के राजा भगवान जगन्‍नाथ ही प्रजा की रक्षा करते हैं। इसी उद्देश्य से वे हर साल शुभ मुहूर्त में रथ पर सवार होकर प्रजा का हाल-चाल जानने के लिए निकलते हैं। रथयात्रा में कृष्ण-बलराम और सुभद्रा के रूप में दर्शन देते हुए भगवान जगन्‍नाथ जनता के बीच आते हैं और उनके सुख-दुख में सहभागी होते हैं।

गैर-सरकारी होगी रथयात्रा

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान 4 जुलाई 2008 को पहली बार विधानसभा चुनाव से पहले जन-आशीर्वाद यात्रा पर निकले थे। इसके बाद फिर वे दोबारा सरकार बनाने के लिए 9 जुलाई 2013 को जनता का आशीर्वाद मांगने के लिए निकले । दोनों यात्राओं से हटकर इस यात्रा की खास बात यह है कि भाजपा ने इसे पूरी तरह राजनीतिक यात्रा घोषित किया है। इसका खर्च भी पार्टी ही उठाएगी।

यात्रा का शुभारंभ करने के लिए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह भी शनिवार को उज्जैन आ रहे हैं। यहां वे आमसभा को भी संबोधित करेंगे। उज्जैन में भगवान महाकाल की पूजा पाठ के बाद सीएम की रथयात्रा शुरू होगी। इससे पहले प्रदेश भाजपा मुख्यालय में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को दोनों रथों का विधिवत पूजा पाठ किया ।