Naidunia
    Monday, December 18, 2017
    PreviousNext

    स्लीपर कोच बस संचालक लगा रहे हैं शासन को लाखों का चूना

    Published: Fri, 08 Dec 2017 09:01 AM (IST) | Updated: Fri, 08 Dec 2017 12:42 PM (IST)
    By: Editorial Team
    sleeper bus 2017128 124215 08 12 2017

    शिवपुरी। जिला मुख्यालय से संचालित स्पीलर कोच बस संचालकों द्वारा परिवहन विभाग के निर्देशों का पालन नहीं किया जा रहा है। बस संचालक अपनी मनमानी कर ओवरलोडिंग कर रहे हैं, यहां तक कि छतों पर बड़ी मात्रा में लगेज ले जा रहे है। अधिकांश बस मालिकों द्वारा बिना बैच के ड्रायवरों को बसों पर लगा रखा है। यात्रियों की मानें तो चालक, परिचालक अपनी मनमानी करते हैं और बसों में सवारियों को ठूंस-ठूंसकर भरते हैं। बस स्टाफ द्वारा बसों में यात्रियों से अभद्रता करना तो आम बात हो गई।

    जानकारी के अनुसार शिवपुरी से सैंकड़ों की संख्या में इंदौर, भोपाल, जयपुर, उदयपुर, दिल्ली, कानपुर, कोटा आदि शहरों के लिए स्लीपर कोच बसें चलती है। इन बसों में सवारियों से अधिक मात्रा में लगेज भरा जाता है। बसों में यह लगेज न केवल अंदर बल्कि बसों की छत पर भी लाद दिया जाता है जिससे इन बसों की ऊंचाई और भी अधिक हो जाती है। बसें तेज रफ्तार में चलती है और ऊंचाई अधिक होने के कारण कभी भी हादसे का शिकार हो सकती है। इस प्रकार बस संचालकों द्वारा निजी फायदे के चलते यात्रियों के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है, बल्कि शासन को भी लाखों रुपए के टैक्स का चूना लगाया जा रहा है।

    200 बसों का होता है संचालन

    शिवपुरी जिले से करीब 200 बसों का प्रतिदिन संचालन होता है जिनमें दो हजार से अधिक यात्री इन बसों में सफर करते हैं। शिवपुरी में जगह-जगह से संचालित हो रही अधिकतर बसों में कोई सुविधा नहीं है यहां तक कि कई बसों में इमरेजेंसी विंडो भी नहीं है। पूर्व में बसों में कई बड़े हादसे हो चुके हैं, लेकिन बस संचालक इससे सबक लेने को तैयार नहीं हैं और अपनी मनमानी पर उतारू बने हुए हैं।

    कैसे मिल जाता है कई बसों को एक ही नंबर

    यात्रियों का कहना है कि मुख्यालय से जिन स्लीपर कोच बसों का संचालन हो रहा है उनमें बस संचालक अपनी कई बसों में एक ही नंबर का इस्तेमाल कर रहे हैं। सोचनीय पहलू यह है कि एक से अधिक बसों पर एक ही नंबर इन्हें कैसे मिल जाता है। सूत्रों की मानें तो बस संचालक विभाग से सांठगांठ कर एक से अधिक बसों के लिए एक ही नंबर मुहैया करा ले जाते हैं। इस प्रकार संचालकों द्वारा शासन को लाखों रुपए के टैक्स का चूना लगाया जा रहा है।

    क्या है नियम

    नियम के अनुसार बसों में लगेज ले जाने का प्रावधान सिर्फ बस में यात्रा करने वाले यात्रियों को ही है, वह भी निर्धारित सीमा के अनुसार, लेकिन बस संचालकों द्वारा नियमों को ताक पर रखकर निर्धारित सीमा से अधिक लगेज ले जाता जाता है। इसके अलावा भी बस संचालकों द्वारा बिना यात्रा करने वाले व्यक्तियों के लगेज को भी भरा जाता है।

    कई स्थानों से होता है बसों का संचालन

    बस संचालकों द्वारा न सिर्फ नियम विरूद्घ लगेज ढोया जा रहा है बल्कि बसों का संचालन भी अपने मनमाने तरीके से किया जा रहा है। नियम के अनुसार शहर से बसों का संचालन पोहरी बायपास स्थित नवीन बस स्टैंड से किया जाना चाहिए, लेकिन बस संचालकों द्वारा पुराना बस स्टैंड, दो बत्ती तिराहे, पोहरी चौराहा से किया जाता है। जगह-जगह से बसों का संचालन होने से यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड;ता है।

    इनका कहना है

    अगर बस संचालकों द्वारा बसों द्वारा लगेज भरवाया जा रहा है तो जल्द ही बसों की चैकिंग कर उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

    विक्रमजीत सिंह कंग, आरटीओ शिवपुरी

    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें