भितरवार। नईदुनिया प्रतिनिधि

बीआरसी कार्यालय में मंगलवार को बीआरसी अनवार खान द्वारा समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया। इस दौरान उन्होंने सभी जनशिक्षकों से कहा कि प्राथमिक स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों को 28 अप्रैल को जॉयफुल लर्निंग योजना के माध्यम से पढ़ाई कराएं, ताकि बच्चों का मन खेल-खेल में पढ़ाई में भी लग सके।

बैठक में बीआरसी ने कहा कि योजना के तहत सभी जनशिक्षक सभी स्कूलों का निरीक्षण करें, साथ ही बच्चों को भी इस योजना के तहत पढ़ाने के लिए प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि 28 अप्रैल तक इस योजना के तहत सभी प्राथमिक स्कूलों में यह कार्यक्रम हर हाल में आयोजित कराना है। उन्होंने कहा कि इस कार्य में कोई भी शिक्षक लापरवाही बरतेगा, तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। इससे पूर्व बीआरसी ने कहा कि शिक्षक अपने मेमोरी कार्ड में वीडियों को अपलोड करें और जहां पर टीवी, कम्प्यूटर आदि की व्यवस्था है, तो उससे बच्चों को नाटक दिखाकर बताएं। साथ ही जहां पर यह सुविधाएं नहीं है तो वह मोबाइल के माध्यम से भी बच्चों को बता सकते है। बैठक में ऊषा कदम, मदनमोहन, विश्वभार सिंह, राजकुमार, लोकेन्द्र वर्म, पंकज शर्मा, हरज्ञान ंिसह, उदयप्रकाश, मोहन सिंह आदि लोग मौजूद थे।

2

डबरा बीआरसी ने भी ली बैठक जॉयफुल लर्निंग योजना के तहत मंगलवार को डबरा बीआरसी कार्यालय में धर्मेन्द्र पाठक ने भी जनशिक्षकों की बैठक का आयोजन किया। इसमें उन्होंने कहा कि सभी जनशिक्षक स्कूलों की मॉनिटरिंग करें और शिक्षकों को बताएं कि खेल के साथ-साथ बच्चों का मनोरजंन भी कराएं। इसके अलावा सभी शिक्षकों को निर्देशित किया गया है कि वह अपने-अपने मोबाइल फोन के माध्यम से भी बच्चों को वीडियो दिखाकर पढ़ा सकते है। इस अवसर पर देवेन्द्र शर्मा, मदन मोहन शर्मा, प्रमोद श्रीवास्तव आदि लोग मौजूद थे। बच्चों ने लैपटॉप के जरिए की पढ़ाई

फोटो

डबरा। शहर के प्राथमिक स्कूलों में इन दिनों जॉयफुल लर्निंग योजना के तहत कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। मंगलवार को भी शहर के सभी प्राथमिक स्कूलों में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस मौके पर बच्चों को लैपटॉप के जरिए नाटक, कहानी आदि के बारे में पढ़ाया गया। इस योजना का मुख्य उद्देश्य है कि बच्चे हिन्दी और गणित विषय को आसानी से समझें। खेल-खेल के साथ बच्चे पढ़ाई में मन लगाएं। इसलिए यह कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। डबरा ब्लॉक में 28 अप्रैल तक इस योजना के तहत सभी शासकीय स्कूलों में यह कार्यक्रम आयोजन होंगे।