टीकमगढ़। जिले के खरगापुर थाना क्षेत्र के ग्राम सतरई में बुधवार सुबह मकान विवाद को लेकर एक नाबालिग का उसी के रिश्तदारों द्वारा अपहरण कर जंगल में उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म का मामला सामने आया है।

आरोपितों ने नाबालिग के चेहरे को भी पत्थर से कुचलने का प्रयास किया। इसके बाद नाबालिग को मरा जानकार आरोपित फरार हो गए। गुरुवार सुबह आसपास के ग्रामीणों ने जब नाबालिग को घायल अवस्था में देखा तो उन्होंने डायल 100 को सूचना दी। गंभीर हालत होने पर नाबालिग को झांसी रेफर किया गया।

इस घटनाक्रम से पहले चार की संख्या में आए आरोपितों ने नाबालिग और परिजन को उसी के घर में घुसकर पीटा। जब नाबालिग मारपीट की शिकायत थाने में कराने जा रही थी तभी उसका अपहरण किया गया। उधर पुलिस नाबालिग के साथ दुष्कर्म की बात तो मान रही है, लेकिन सामूहिक दुष्कर्म की बात से इनकार कर रही है।

नाबालिग के परिजन ने जिला अस्पताल में मीडिया से कहा कि मकान के विवाद को लेकर उनके ही परिवार के तीन रिश्तेदारों ने और उनके एक साथी द्वारा पहले उनके घर पर पहुंचकर मारपीट की गई है, जिसकी रिपोर्ट लिखाने के लिए जब नाबालिग थाना खरगापुर जा रही थी, इसी बीच चारों युवकों ने उसका अपहरण कर लिया। नाबालिग के साथ सामूहिक दुष्कर्म कर उसे जंगल में फेंक दिया गया।

दुराचार का मामला किया दर्ज

एडिशनल एसपी सुरेंद्र जैन का कहना है कि इस मामले में नाबालिग से दुराचार हुआ है। तीन अन्य युवक नाबालिग के ही रिश्तेदार हैं। पुलिस ने अभी मामले में जांच-पड़ताल शुरू की है। अभी मामले में एक आरोपित हरीराम कुशवाहा पर दुराचार का मामला दर्ज किया है। मामले में दोषी होंगे, उन पर भी जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी।