सिमरा खास। ग्राम पंचायत सिमरा के मध्यांचल ग्रामीण बैंक में पिछले 15 दिनों से उपभोक्ता कैश की किल्लत से परेशान हैं और अधिकारियों का उदासीन रवैया बना हुआ है। बैंक के उपभोक्ता नरेन्द्र मिश्रा, किसान हल्के कुशवाहा, मनोहर यादव आदि ने बताया कि वह दो सप्ताह से मध्यांचल ग्रामीण बैंक शाखा सिमरा में अपनी सूखा राहत राशि और पैसा निकालने के लिए जा रहे हैं लेकिन उन्हें बैंक द्वारा नगदी नहीं दी जा रही है। कैश कमी लगभग दो सप्ताह से मध्यांचल ग्रामीण बैंक शाखा सिमरा में अपनी सूखा राहत राशि और पैसा निकालने के लिए जा रहे हैं लेकिन उन्हें बैंक द्वारा नगदी नहीं दी जा रही है। कैश की कमी होना हमेशा बताया जा रहा है। जिससे कैश नहीं निकल पाने से वह अपनी जरूरत का सामान नहीं खरीद पा रहे हैं। उपभोक्ताओं ने बैंक के वरिष्ठ अधिकारियों का ध्यान आपेक्षित कर शीघ्र व्यवस्था सुधारने की मांग की हैं। नरेन्द्र मिश्रा ने बताया कि कैश की समस्या से पूरे गांव के किसान और आम लोग परेशान हैं। बैंक प्रबंधन द्वारा इस ओर किसी प्रकार से ध्यान नहीं दिया जा रहा है। यह समस्या लगातार बढ़ती जा रही है। आगामी सीजन में लोगों को पैसों की सबसे ज्यादा जरूरत है लेकिन रुपए की कमी से क्षेत्र के सैकडों लोगों को खाली हाथ बैंक से वापस लौटना पड़ रहा है। यही हाल रहा तो आने वाले समय में लोगों के लिए सबसे बड़ी परेशानी खड़ी हो जाएगी। रोजमर्रा की जरूरतों के लिए भी लोगों को भटकना पड़ सकता है। उन्होंने जिला प्रशासन से बैंक में शीघ्र ही करेंसी की व्यवस्था बनाने की मांग की है।