कलश यात्रा के साथ श्रीमद् भागवत कथा प्रारंभ

पृथ्वीपुर। नईदुनिया न्यूज

ग्राम नैगुवां स्थित हनुमान मंदिर में श्रीमद् भागवत महापुराण का शुभारंभ किया गया है। शुक्रवार को मंदिर से पूरे गांव में भव्य कलश यात्रा निकाली गई। जिसका लोगों ने जगह-जगह स्वागत किया। कलश यात्रा कलश स्थल श्री हनुमान जी महाराज मंदिर से निकाली गई जो विभिन्न मार्गों से होती हुई वापस कथा स्थल पहुंची। कलश यात्रा में काफी संख्या में महिलाएं सिर पर कलश रखकर मंगल गीत गाती हुईं निकलीं। कथा स्थल पर वेद पंडितों द्वारा विधि विधान से श्री भागवत महापुराण का मूल पाठ एवं महामृत्युंजय जाप किया गया। कथा प्रतिदिन सायं 5 बजे से हरिइच्छा तक चल रही है। इसी के साथ प्रथम दिन की कथा का वाचन हुआ। रेवतीरमण पांडेय, मनोज पांडेय और संजय पांडेय ने बताया कि आचार्य अखिलेश मिश्रा श्रीधाम वृंदावन और श्री परमहंस महाराज तपस्वी छावनी श्री अयोध्या धाम के द्वारा मार्मिक कथा का वाचन किया जा रहा है। पं. अखिलेश महाराज महाराज ने कहा कि संतों का मिलन भी विशेष संयोग की बात है संत और सत्संग का जीवन में विशेष महत्व है। इसलिए जीवन में धर्म के लिए कुछ समय अवश्य निकालें, धर्म से मन की शुद्घि होती है। महाराज ने कहा कि कलियुग में भागवत महापुराण का श्रवण कल्याणकारी है। इससे प्रत्येक प्राणी को भगवान कृष्ण के इस साक्षात पुराण का चिंतन और स्मरण जरूर करना चाहिए। कलियुग में भगवान के चिंतन का बड़ा महत्व है। इससे प्रत्येक प्राणी को भागवत की शरण जरूर लेना चाहिए। यही मोक्ष का मार्ग है। बद्रीनारायण पांडे, चन्द्रिका प्रसाद पांडे, राकेश पांडे, सच्चिदानंद पांडेय ने बताया कि 24 मई को सुंदरकांड पाठ, पूर्णाहूति, प्रसाद वितरण एवं विशाल भंडारा का आयोजन किया जाएगा।