टीकमगढ़। वरिष्ठ कवि हरिश चन्द्र पुष्प के निधन पर एक शोकसभा आयोजित की गई। साहित्यक संस्था मप्र लेखक संघ जिला इकाई ने शिवनगर कॉलोनी में वरिष्ठ कवि हरिश चन्द्र पुष्प के निधन पर एक शोकसभा आयोजित की और दो मिनट का मौन रखकर दिवंगत आत्मा को अपनी श्रद्धांजलि दी। राजीव नामदेव ने बताया कि वे 90 साल के थे और कुछ समय से बीमार चल रहे थे उनकी कुछ साल पहले बाइपास सर्जरी भी हो चुकी थी। उनका एक काव्य नारी के तीन पग प्रकाशित हुआ था। उनकी रचनाएं कई पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित हुई है। रामगोपाल रैकवार ने बताया कि पुष्प जी को राहुल संस्कृतायन का सानिध्य भी मिला है। वे कुछ समय उनके साथ भी रहे है। पं. हरिविष्णु अवस्थी ने कहा कि उनका स्वभाव सरल और सौम्य था उन्होंने देश भर में खूब यात्राएं की थे। परमेश्वरी दास तिवारी ने बताया कि वे सरकनपुर में सरपंच भी रहे। श्रद्धांजलि देने वाले साहित्यकारों में प्रमुख रूप से राजीव नामदेव, विजय मेहरा, परमेश्वरी दास तिवारी, पं. हरिविष्णु अवस्थी, रामगोपाल रैकवार, अजीत श्रीवास्तव, हाजी फ़र उल्ला खां, विजय मेहरा, आरएस शर्मा, भारत विजय बगेरिया, सियाराम अहिरवार, एनडी सोनी, शिवचरण उटमालिया, उमाशंकर मिश्रा, सीताराम राय आदि साहित्यकार मौजूद रहे।