टीकमगढ़। प्रदेश में बेटियों की आवरु लूटने वालों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा। प्रदेश की बेटियों पर कुदृष्टि डालने वालों को फांसी के फंदे पर लटकाया जाएगा। इसके लिए आने वाले मानसून सत्र में नया कानून बनाया जाएगा और उसे अनुमोदित कराने के लिए राष्ट्रपति के भेजा जाएगा। बेटियों की सुरक्षा हम सभी की जिम्मेदारी है। इसके साथ ही बुंदेलखंड के किसानों की दिशा और दशा बदलने के लिए यहां के 930 चंदेलकालीन तालाबों का जीर्णोद्वार कराया जाएगा, बुंदेलखंड में कृषि को लाभ का धंधा बनाने में कोई कमी नहीं छोड़ी जाएगी। यह विचार प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने व्यक्त किए।

नजरबाग मैदान में आयोजित बुंदेलखंड सृृजन 2017- दो दिवसीय राष्ट्रीय प्रदर्शनी व संगोष्ठी के समापन अवसर पर बोलते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने जहां बेटियों और किसानों को लेकर अपनी चिंता जताई, उन्होंने कहा कि बेटियों को सुरक्षित रखने के लिए नया कानून लाने के प्रयास किए जाएंगे। वहीं उन्होंने खेती को लाभ का धंधा बनाने के लिए चंदेलकालीन तालाबों के जीर्णोद्वार की बात कही। ज्ञात हो कि बुंदेलखंड क्षेत्र में लगभग 930 चंदेलकालीन तालाब है, जिनका जीर्णोद्वार हो जाने से क्षेत्र के लाखों किसान लाभाविंत होंगे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने सामान्य वर्ग के गरीब छात्र-छात्राओं को लेकर भी अपनी चिंता जताई। उन्होंने कहा कि शिक्षा का अधिकार सभी को सामान्य रूप से है, अब सामान्य वर्ग के गरीब बेटा-बेटी भी शिक्षा ले सकेंगे। प्रदेश सरकार ने सामान्य परिवारों के बच्चों के लिए भी छात्रवृति योजना लाने का विचार किया गया है। मुख्यमंत्री द्वारा सामान्य परिवार के गरीब बच्चों के कल्याण के लिए भी अनेक योजनाएं लाने की बात कही, जिससे शिक्षा में किसी प्रकार की बाधा न आए।