टीकमगढ़। बेटी-बचाओ-बेटी-पढ़ाओ अभियान अंतर्गत नगद राशि देने का प्रावधान नहीं है। जिला महिला सशक्तिकरण अधिकारी डीके दीक्षित ने बताया कि भारत सरकार द्वारा वर्ष 2016-17 से शिशु लिंगानुपात में बालिकाओं की संख्या में वृद्धि के लिए बेटी-बचाओ-बेटी- पढ़ाओ अभियान चलाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि इस अभियान का उद्देश्य जनसामान्य में बालिकाओं के जन्म को प्रोत्साहित करना तथा कन्या भ्रूण हत्या को रोकना है। उन्होंने बताया कि इसके अंतर्गत सामाजिक जागरूकता कार्यक्रमों के माध्यम से बालिकाओं के प्रति सामाजिक सोच में बदलाव लाने का प्रयास किया जा रहा है। इस अभियान के अंतर्गत किसी भी बालिका को नगद या बैंक के माध्यम से राशि देने का कोई प्रावधान नहीं है।