उज्जैन, नईदुनिया प्रतिनिधि । व्यापमं द्वारा साल 2013 में ली गई पुलिस आरक्षक भर्ती परीक्षा में हुई गड़बड़ी की शिकायत और जांच के बाद माधवनगर पुलिस ने एक आरक्षक के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज किया है। आरोप है कि आरक्षक ने खुद के स्थान पर दूसरे से परीक्षा दिलवाई और पास हो गया। फिंगर प्रिंट व अन्य जांचों के बाद पुलिस ने बुधवार रात प्रकरण दर्ज किया है।

पुलिस एवजी की भी तलाश कर रही है। माधवनगर पुलिस के अनुसार व्यापमं ने वर्ष-2013 में आरक्षक चयन परीक्षा आयोजित की थी। संजय निगम पिता दाताराम हाल निवासी पुलिस लाइन नागझिरी ने चयन परीक्षा से गुजरकर नौकरी प्राप्त की। पिछले दिनों शिकायत मिली कि संजय निगम ने अपने स्थान पर किसी एवजी से लिखित परीक्षा दिलवाई थी। इस पर सीएसपी ने आनंद सोनी ने मामले की जांच की।

फिंगर प्रिंट से हुआ खुलासा -

आरक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा के दौरान परीक्षार्थियों के फिंगर प्रिंट के साथ हस्ताक्षर भी लिए गए थे। पुलिस ने इसकी जांच की तो पता चला कि संजय ने अपने स्थान पर किसी और से इम्तिहान दिलवाया था। इस पर संजय के खिलाफ आईपीसी की धारा 420, 419 के तहत प्रकरण पंजीबद्ध कर लिया गया है। संजय फिलहाल पुलिस लाइन उज्जैन में आरक्षक है।