उज्जैन। दोपहिया वाहन चोरी कर उनके पार्ट्स निकालकर बेचने वाले वाहन चोर गिरोह के 5 बदमाशों को महाकाल पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पुलिस ने बदमाशों के कब्जे से 12 दोपहिया वाहन बरामद किए हैं। वहीं 8 वाहनों के रजिस्ट्रेशन भी मिले हैं। एक बदमाश वाहन चोरी को अंजाम देता था और फिर साथियों के साथ मिलकर वाहन के पार्ट्स निकालकर बेच देता था। चोरी की बाइक सुधरवाने के लिए गैरेज ले जाने पर वाहन मालिक ने उसे पहचान लिया था। इस आधार पर पुलिस ने वाहन चोर गिरोह को पकड़ा है।

एसपी सचिन अतुलकर ने बताया कि महाकाल थाना क्षेत्र में रहने वाले संजय गौड़ का दोपहिया वाहन चोरी हो गया था। जिसे लेकर एक व्यक्ति इंदौर गेट स्थित गैरेज पर सुधरवाने के लिए पहुंच गया था। जहां वाहन मालिक संजय ने वाहन की पहचान कर टीआई राकेश मोदी को सूचना दी। इस पर पुलिस मौके पर पहुंची और शहजाद पिता नवाब निवासी पहलवान पीर का टेकरा जांसापुरा को हिरासत में लेकर वाहन जब्त कर लिया। पूछताछ में नवाब ने बताया कि उसने वाहन इमरान पिता जाकिर हुसैन कुरैशी (28) निवासी जांसापुरा से खरीदा था।

पुलिस ने इमरान को गिरफ्तार कर पूछताछ की तो उसने वाहन चोरी करना कबूला। वह अकेले ही वाहन चोरी की वारदात करता था। इमरान वाहन चोरी करने के बाद अपने दोस्त मोहम्मद फिरोज पिता मोहम्मद अय्यूब नागौरी (38) निवासी बेगमबाग, अकबर पिता रफीक (40) निवासी केडी गेट, सिकंदर पिता दरवेश पटेल निवासी हरनियाखेड़ी नरवर की मदद से वाहन के पार्ट्स निकालकर लोगों को बेच देता था। पुलिस ने सभी को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से 12 दोपहिया वाहन, कई वाहनों के पार्ट्स, सहित अन्य सामान व लैथ मशीन बरामद की है।

पुराने वाहन खरीदकर चोरी के वाहनों के पार्ट्स लगाते थे

इमरान ने पुलिस को बताया कि वह करीब 15 से 20 साल पुराने दोपहिया वाहनों को खरीद लेते थे। इसके बाद उनके सारे पार्ट्स निकालकर चोरी के वाहनों के पार्ट्स लगा देते। वाहन मालिक से रजिस्ट्रेशन लेकर उसे अच्छी कीमत में लोगों को बेच देते थे। पुलिस ने बदमाशों के पास से 8 वाहनों के रजिस्ट्रेशन कार्ड भी बरामद किए है।