ग्वालियर। आखिकार वो दिन आ ही गया, जिसका यंगस्टर्स को बेसब्री से इंतजार था। आज वैलेंटाइन-डे है यानी वह खास दिन, जब हम अपने दिल की बात उससे कह सकते हैं, जो हमारे सबसे करीब है। किसी ने कहा है कि प्यार की कोई परिभाषा नहीं होती है। यह किसी बंधन में नहीं बंधा होता है। इसलिए जरूरी नहीं है कि यह दिन सिर्फ लव बड्स ही सेलिब्रेट कर सकते हैं। वैलेंटाइन ऐसा कोई भी व्यक्ति हो सकता है, जिससे हम प्रेम करते हैं। हमारे माता, पिता, दादा-दादी या फिर बच्चे भी वैलेंटाइन हो सकते हैं। इसलिए उन्हें आज यह बताएं कि वो आपके जिंदगी में कितनी तरह अहमियत रखते हैं। इससे उन्हें तो खुशी ही मिलेगी। इसके साथ ही आपको भी एक अलग अहसास होगा।

चाहे तो अपने करीबियों को कोई प्यार सा उपहार दे सकते हैं या फिर उनके लिए कोई कविता लिख सकते हैं। मैं और मेरी मां एक-दूसरे के बेस्ट फ्रेंड हैं। मां के चेहरे को देखकर ही मेरी सुबह होती है। उन्हें देखे बिना मैं बेड से उठती ही नहीं हूं। मेरा उनसे अच्छा फ्रेंड कोई नहीं हो सकता है। जिंदगी के हर फैसले में वो मेरेसाथ रहती हैं। वैलेंटाइन डे पर मैं उनके साथ ही घूमने जा रही हूं और उनके लिए एक खास गिफ्ट भी लिया है।

जैसा श्रुतिका लाड़ ने नई दुनिया को बताया

एक साथ करेंगे डिनर

मेरी मां ही मेरी वेलेंटाइन हैं। हर साल उनके साथ ही वैलेंटाइन डे सेलिब्रेट करती हूं। मैंने इस बार उनको साड़ी गिफ्ट की है। उसी साड़ी को पहन कर मां और मेरी बहन वैलेंटाइन डे सेलिब्रेट करेंगी। हम साथ में डिनर करेंगे। मेरी मां की खास बात है कि वो कितना भी थकी हों, लेकिन हमेशा मेरा ख्याल उनके लिए हर चीज से जरूरी है।

जैसा सैफाली चौधरी ने नई दुनिया को बताया

मां के लिए ऑर्डर किया है गिफ्ट

मां के साथ बिताया गया हर एक पल मेरे लिए बहुत खूबसूरत है। मैं हर साल उनके साथ ही वैलेंटाइन डे सेलिब्रेट करता हूं, लेकिन इस बार उनसे दूर हूं। इसकी वजह से उनके लिए ऑनलाइन गिफ्ट ऑर्डर किया है। आज भी मुझे वो दिन याद है जब मैं पहली बार जॉब से घर बिना बताए पहंुच गया था और मुझे देखकर मां अपने आंसू नहीं छुपा पाई थी।

जैसा अनूप गुप्ता ने नई दुनिया को बताया