विदिशा (ब्यूरो)। विदिशा की एक युवती ने भोपाल एक युवक से प्रेम विवाह किया, लेकिन एक साल के अंदर ही उनमें खाने के स्वाद को लेकर विवाद होने लगा। परिवार परामर्श केंद्र ने बड़ी मुश्किल से उनमें समझौता कराया।

केंद्र प्रभारी रानी निंदाने और सोनम गौर के मुताबिक विदिशा की युवती ने पिछले साल भोपाल के युवक से प्रेम विवाह किया था। पहले से रिलेशनशिप में होने के कारण विवाह के समय युवती गर्भवती थी। विवाह के कुछ समय बाद ही उनको एक बेटी हो गई। इस कारण वे दोनों कहीं घूमने भी नहीं जा पाए थे। जिस पर उनमें खटपट शुरू हो गई। आए दिन किसी न किसी बात पर विवाद होने लगा।

मामला बढ़ने पर परिवार परामर्श केंद्र में आया। जहां सुनवाई के दौरान पति ने कहा कि वह संपन्न् परिवार का है। उसके घर खाना बनाने बाई आती है। उसे बाई के हाथ का बना खाना पसंद है। पत्नी इतना स्वादिष्ट खाना नहीं बना पाती। वहीं पत्नी का कहना था कि वह जब खाना बनाती है, तो पति नहीं खाता। कोई काम नहीं करता। दिन भर घर में रहता है। फिर शाम को चला जाता है तो देर रात घर लौटता है। पूरा बिजनेस ससुर संभालते हैं। केंद्र की काउंसलर डॉ. तरुणा सक्सेना ने दोनों को अलग-अलग समझाइश दी, लेकिन दोनों अपनी जिद पर अड़े थे। खुद को सही ठहराने के लिए वे बार-बार बेटी की कसमें खा रहे थे। करीब 2-3 घंटे की समझाइश के बाद वे समझौता करने पर राजी हुए।