- सीएमएचओ को शिकायत में कहा- जांच कराने पर सामने आ जाएगा सच

- सीएमएचओ ने दिए जांच के निर्देश

गुना। नवदुनिया प्रतिनिधि

एक्स-रे टेक्नीशियन का डिप्लोमा करने के बाद भी हम बेरोजगार हैं। चिंता इस बात की है कि जब हम बेरोजगार है तो एक्स-रे सेंटरों पर काम कौन कर रहा है। इसका जबाव भी हमारे ही पास है। एक्सरे सेंटरों पर बिना डिप्लोमाधारी कर्मचारियों से एक्स-रे कराए जा रहे हैं। चाहे तो शहर के एक्स-रे सेंटरों की जांच कर लो, सच सामने आ जाएगा।

एक्स-रे टेक्नीशियन का डिप्लोमा करने के बाद भी नौकरी नहीं मिलने वाले युवाओं ने यह शिकायत गुरुवार को सीएमएचओ डॉ. रामवीर सिंह रघुवंशी से लिखित आवेदन देकर की। इस दौरान बेरोजगार युवाओं ने बताया कि एक्स-रे सेंटरों पर काम के बदले उचित मानदेय नहीं मिलने के कारण वे बेरोजगार हैं और इसी का फायदा उठाकर बिना एक्सरे टेक्नीशियन डिप्लोमा करने वाले युवाओं से काम कराया जा रहा है, जो नियम अनुसार गलत है।

बॉक्स..

जमा कराए हैं झूठे कागज

युवाओं ने यह भी दावा किया कि प्राइवेट एक्स-रे सेंटरों पर बिना डिप्लोमाधारी कर्मचारियों से एक्सरे कराए जा रहे हैं। कई संस्थान पर कोई एक्स-रे टेक्नीशियन नहीं हैं। न ही सीएमएचओ कार्यालय में एक्स-रे डिप्लोमा और रजिस्ट्रेशन जमा कराया गया है। कई संस्थान ऐसे भी हैं, जिनके द्वारा एक्स-रे डिप्लोमा एवं रजिस्ट्रेशन जमा कराए हैं, लेकिन संबंधित टेक्नीशियन के स्थान पर अन्य नॉन टेक्नीशियन कर्मचारी से काम कराते हुए फर्जीवाड़ा किया जा रहा है।

बॉक्स..

निरीक्षण करने की मांग

युवाओं ने फर्जीवाड़ा करने वाले एक्सरे सेंटरों का निरीक्षण कराने की मांग सीएमएचओ से की और एक्सरे टेक्नीशियन डिप्लोमाधारी युवाओं को रोजगार दिलाने की मांग भी की। युवाओं ने यह भी कहा कि उन्हें उचित मानदेय भी दिलवाया जाए। इस दौरान मधुसूदन सिंह राजपूत, संदीप मेर, देवेंद्र कुशवाह, आशीष कुशवाह, धर्मेंद्र कुशवाह, अविनाश सोनी, जितेंद्र अहिरवार, प्रवीण करेले आदि युवा मौजूद रहे।

वर्जन-

एक्स-रे डिप्लोमाधारी युवाओं की शिकायत मिली है, जिस पर जांच कराई जा रही है। अगर फर्जीवाड़ा मिला, तो नियम अनुसार कार्रवाई करेंगे। एक्स-रे सेंटरों के निरीक्षण के बाद स्थिति स्पष्ट होगी।

- डॉ. रामवीर सिंह रघुवंशी, सीएमएचओ गुना

नोट-फोटो केप्शन

1502जीएन-01-गुना। सीएमएचओ से एक्सरे सेंटरों पर फर्जीवाडे की शिकायत करते हुए युवा।

---