अनूपपुर।

मंगलवार को जनसुनवाई हुई जिसमें कलेक्टर अजय शर्मा और अपर कलेक्टर आर पी तिवारी शामिल हुए जिनके पास 31 आवेदन आए। जनसुनवाई के दौरान ग्राम कोदैली निवासी मनबहोर पटेल ने पंचायत सरपंच के ऊपर आरोप लगाया कि पटवारी एवं आर आई द्वारा बिना सरहद्दी कास्तकारों को सूचित किए बगैर फर्जी तरीके से नक्शा तरमीम कराकर जमीन में अवैध रूप से कब्जा करने के नियत से कालम खड़ा किया जा रहा है।

मनबहोर ने सरपंच चैती बाई के विरूद्घ शिकायत 1.011 हेक्टेयर जमीन मेरे नाम दर्ज है। इस भूमि पर चैती बाई सरपंच ने जो अपना दिखाकर पटवारी एवं आर आई से मिलकर फर्जी रूप से बिना सरहद्दी कास्तकारों को अवगत कराए बगैर नक्शा तरमीम करा लिया है। लाठी-फर्सा हथियार के बल पर चैती बाई बाड़ी व कालम खड़ा कर रही है। कब्जा रोकने से मना करने पर जान से मारने की धमकी दी जा रही है।

राजस्व न्यायालय के आदेश के बाद भी नहीं हटा कब्जा

जनसुनवाई में अनूपपुर के समीप ग्राम सामतपुर निवासी आनंदराम कोल न्यायालय के आदेश के बाद भी अपनी भूमि को कब्जा मुक्त नहीं होने की शिकायत जिला कलेक्टर से की है। आवेदन पत्र में कहा कि सीतापुर में उसकी भूमि पर सूर्यप्रताप, महेन्द्र सिंह, ऊषा सिंह ने कब्जा कर लिया था। यह मामला एसडीएम न्यायालय अनूपपुर में पहुंचा जहां से आवेदक के पक्ष में फैसला आया। अनुविभागीय अधिकारी द्वारा 20 मार्च को तहसीलदार को एक सप्ताह के भीतर कब्जा दिलाने के आदेश पत्र जारी किए। तहसीलदार ने 28 मार्च को नायब तहसीलदार अनूपपुर को आदेशित किया और यहां से राजस्व निरीक्षक रमाकांत तिवारी और हल्का पटवारी शिवशंकर सिंह को आदेश जारी कर तीन दिनो के अंदर कब्जा दिलाकर प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के आदेश जारी किए गए लेकिन सरकारी अधिकारियों-कर्मचारियों की लापरवाही से आदिवासी आनंदराम कोल को जमीन का कब्जा नहीं मिल सका। जल्द भूमि से कब्जा हटाने की गुहार लगाई है।

पंच नहीं बनने दे रहा हरिजन बस्ती में रोड

पुष्पराजगढ़ तहसील के ग्राम जरही निवासी भगवानदास व अन्य ग्रामीणों ने जनसुनवाई में आकर कलेक्टर को बताया कि पंचायत अंतर्गत भीटी टोला में सीसी रोड मंजूर हुआ है। सारी औपचारिकता पूरी हो चुकी है,लेकिन पंच रमेश दिनकर व छोटईया ग्रामीण द्वारा गांव में आरजकता फैलाई जा रही है। वार्ड 6 और 7 हरिजन मोहल्ला में जो सीसी रोड बननी है उसको जबरन दूसरे वार्ड में बनवाने का प्रयास किया जा रहा है। सरपंच-सचिव से भी गाली-गलौज की जाती और धमकी दी जा रही है।

3 साल से नहीं मिली पेंशन राशि

तहसील कोतमा के ग्राम पंचायत डोला निवासी रामबाई पनिका ने मंगलवार को आवेदन देकर बताया कि उसे वृद्घावस्था पेंशन तीन वर्ष से नहीं मिली है। पहले खाते में यह पेंशन राशि पहुंच जाया करती थी जो खाते में नहीं आ रही है। कई बार बैंक और पंचायत सचिव को अवगत कराया गया, लेकिन पेंशन की राशि नहीं पहुंची।

भूमि अधिग्रहण की नहीं मिली राशि

जनपद अनूपपुर के फुनगा तहसील अंतर्गत ग्राम पाली निवासी गांधी सिंह ने कलेक्टर को आवेदन देकर बताया कि वर्ष 2008-09 में सिंचाई विभाग द्वारा एक जलाशय बनवाया जिसमें उक्त प्रार्थी की भूमि लगभग 5 एकड़ भूमि कालरी प्रशासन ने अधिग्रहण कर ली। गांधी सिंह ने बताया कि जलाशय का नक्शा दर्शाया भी गया लेकिन हल्का पटवारी द्वारा जो मुआवजा पत्रक बनाया गया वह कम एकड़ का बनवाया। जबकि अधिग्रहण 5 एकड़ का है। आवेदक ने अधिग्रहण की सही राशि दिलाने की गुजारिश की है।

मुक्तिधाम बन गया पर नहीं मिला भुगतान

जैतहरी विकासखण्ड के ग्राम धिरौल में पंचायत द्वारा ठेके में मुक्तिधाम का निर्माण करवाया। यह कार्य पूरा हो गया लेकिन कार्य के बदले मजदूरी भुगतान न तो ठेकेदार कर रहा और न ही पंचायत सचिव। यह शिकायत जनसुनवाई में ग्राम बकेली की महिला मजदूर उर्मिला, ताराबाई, इंद्रवती सहित अन्य मजदूरों ने मजदूरी भुगतान न मिलने का आरोप लगाया है और शीघ्र भुगतान कराए जाने की मांग रखी है। इसी तरक की शिकायत ग्राम पड़रिया, धनगवां के कुछ मजदूरों ने भुगतान न मिलने की शिकायत की है। ग्राम निवासी चंद्रभान सिंह ने अगस्त से अक्टूबर 2017 तीन माह का चौकीदारी भुगतान कराए जाने की मांग रखी है।

क्रमोन्नति का लाभ दिलाए जाए

यह समस्या पुष्पराजगढ़ तहसील के ग्राम बसनिहा निवासी एवं पूर्व पीसीओ रामगोपाल परस्ते की है जिन्होने कलेक्टर को अवगत कराया कि 21 मार्च 1994 से 29 अगस्त 2013 तक नौकरी की 21 मार्च 2004 को प्रथम क्रमोन्नति का लाभ मिलना था किंतु इस सुविधा के लिए वह आज भी भटक रहा है। सभी जगह आवेदन दिया जा चुका है, लेकिन कोई कार्यवाही अभी तक नहीं हुई।