फाइल 13 पेज 13 के लिए

संगठन महामंत्री एवं प्रदेश उपाध्यक्ष ने लिया तैयारियों का जायजा

फोटो-14होश13

कैप्शन। कार्यक्रम स्थल का जायजा लेते हुए संगठन महामंत्री व अधिकारी।

होशंगाबाद। पांचवा नदी महोत्सव का आयोजन होशंगाबाद जिले के बांद्राभान में 16 मार्च से किया जाएगा जो 17 मार्च तक चलेगा। नदी महोत्सव का प्रतीक हमारी सृष्टि में जीवन के मूल सिद्घांत पंच महाभूत की एकात्मकता पर आधारित है। पंचम नदी महोत्सव की तैयारियों का जायजा लेने के लिए आज संगठन महामंत्री सुहास भगत एवं प्रदेश भाजपा उपाध्यक्ष ब्राजेश लूनावत ने बांद्राभान का भ्रमण किया और बांद्राभान में की जा रही तैयारियों का अवलोकन किया। संगठन महामंत्री सुहास भगत ने बांद्राभान में नदी महोत्सव के लिए बनाए जा रहे मंच, बैठक व्यवस्था, सुरक्षा व्यवस्था का निरीक्षण किया। उन्होंने नदी महोत्सव के दौरान पर्याप्त पेयजल की व्यवस्था रखने के निर्देश दिए। भोजन स्थल का निरीक्षण कर सभी व्यवस्थाएं सुचारू रूप से संचालित करने के निर्देश दिए। निरीक्षण के दौरान नर्मदा समग्र के न्यासी एवं बैरसिया विधायक विष्णु खत्री, जिला अध्यक्ष हरिशंकर जयसवाल, सहकारी बैंक के अध्यक्ष भरत सिंह राजपूत, पियूष शर्मा, सुनील राठौर, कलेक्टर अविनाश लवानिया, पुलिस अधीक्षक अरविंद सक्सेना सहित आदि उपस्थित थे।

350 प्रतिभागियों ने कराया रजिस्ट्रेशन

नदी महोत्सव में नदी संरक्षण एवं नदी पर चर्चा के लिए देश विदेश से लगभग 350 प्रतिभागियों ने अपना रजिस्ट्रेशन कराया है। 16 मार्च को प्रातः 9 बजे से प्रातः 10ः30 बजे तक पंजीयन का कार्य किया जाएगा। नदी महोत्सव का शुभारंभ प्रातः 11 बजे किया जाएगा। दोपहर 1 से 2 बजे का समय भोजन का रहेगा। दोपहर 2 बजे से सायं 4 बजे तक समानांतर सत्र का आयोजन किया जाएगा जिसमें नदी किनारे की संस्कृति एवं समाज, नदी कृषि एवं आजीविका का परस्पर संबंध, नदी का अस्तित्व और जैव विविधिता तथा सहायक नदियों का संरक्षण, नीतियां नियम और संभावनाओं पर चर्चा की जाएगी। सायं 4ः30 बजे से सायं 6ः30 बजे तक समग्र सत्र का आयोजन किया जाएगा। सायं 6ः30 बजे से नदी से संवाद अर्थात नर्मदाष्टक का गान किया जाएगा। सायं 7 बजे से रात्रि 8 बजे तक सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा।

सीएम करेंगे कार्यक्रम में शिरकत

नदी महोत्सव में मुख्यमंत्री कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे। मुख्य अतिथि के रूप में केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राज मार्ग, जल संसाधन, नदी विकास तथा गंगा संरक्षण मंत्री नितिन गडकरी मौजूद रहेंगे। कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के रूप में सर सरकार्यवाह राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ सुरेश सोनी तथा विशिष्ट अतिथि के रूप में आर्श विद्या मंदिर राजकोट के स्वामी परमानंद जी मौजूद रहेंगे। 16 मार्च को ही समानांतर चर्चा सत्र का आयोजन किया जाएगा। जिसमें समग्र सत्र में मुख्य वक्ता के रूप मे केन्द्रीय पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री उमा भारती, सामाजिक कार्यकर्ता भारती ठाकुर, सदस्य सचिव जैव विविधता बोड श्रीनिवास मूर्ति, निदेशक पैरवी अजय झा, निदेशक श्यामा प्रसाद मुखर्जी शोध संस्थान, डॉ. अनिर्बन गांगोली सहभागिता निभाएंगे। सत्र संयोजक अतुल जैन रहेंगे।