बैतूल। केन्द्रीय पोत, सड़क परिवहन, राजमार्ग एवं जलसंसाधन मंत्री नितिन गडकरी ने शुक्रवार को यहां कहा कि सड़क के सभी प्रोजेक्टों का काम जल्द शुरू हो जाएगा। इसके लिए करीब 10 लाख करोड़ रुपए के कामों को मंजूरी दी है। किसानों को सिंचाई के लिए पानी मुहैया कराने के लिए आने वाले 2 सालों में 60 हजार करोड़ रुपए उपलब्ध कराएंगे। किसानों को केनाल से नहीं बल्कि पाइप से पानी मिलेगा।

उन्होंने बताया कि अभी तक उनका मंत्रालय प्रदेश को 25 हजार करोड़ रुपए दे भी चुका है। श्री गडकरी शुक्रवार को बैतूल में आयोजित तेंदूपत्ता संग्राहक एवं असंगठित मजदूर सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा है कि सड़क देश की संपत्ति है, लोग भी इसकी गुणवत्ता का ख्याल रखें।

केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि किसान पेट्रोल-डीजल का पर्याय बायोथेनाल दे सकता है। महाराष्ट्र में इससे 55 बसें भी चल रही हैं। कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए उन्होंने कहा कि देश में गरीबी हटाओ की बातें खूब हुईं पर गरीबों को जात, धर्म, पंथ के नाम पर मरवाया गया पर हमारी योजनाएं गरीबों को राहत देने वाली हैं। कांग्रेस ने जो 48 साल में नहीं किया वो हमारी सरकार ने 4 साल में कर दिखाया।

यह भी पढ़ें - गडकरी बोले- भोपाल की झील में उतरे हवाई जहाज

उन्होंने अपने विभाग और मंत्रालय को भ्रष्टाचारमुक्त होने का दावा करते हुए कहा हमने ठेकेदारों से साफ कह रखा है कि यदि कोई गड़बड़ी की तो बुलडोजर के नीचे गिट्टी की जगह उन्हें डाल दूंगा। यही कारण है कि कोई ठेकेदार मेरे पास नहीं आता। उन्होंने जनप्रतिनिधियों से मंच से ही कहा कि यदि 5-10 हजार करोड़ के काम चाहिए तो बेहिचक बताएं।

केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि देश में कृषि विकास की गति मात्र 4 से 4.5 प्रतिशत है। महाराष्ट्र में अकेले सिंचाई के लिए 1 लाख करोड़ रुपए मुहैया कराने और काफी प्रयास के बाद कहीं कृषि की विकास दर 10 से 12 प्रतिशत पर आ सकी है। इस मामले में केवल मध्यप्रदेश की हालत ठीक है जहां कृषि क्षेत्र में विकास दर 23 प्रतिशत है। इसकी वजह यह है कि संकट की इस घड़ी में यहां के सीएम खजाना खोल कर किसानों के पीछे खड़े हैं।

यह भी पढ़ें - किसान सुलझा सकता है पेट्रोल-डीजल संकट

केंद्रीय मंत्री श्री गडकरी ने कहा कि किसानों की हालत सुधारने ही हमने मलेशिया से आ रहे पाम आइल पर ड्यूटी जो शून्य प्रतिशत थी, को 35 प्रतिशत कर दिया है। दाल का आयात करना बंद किया और इंडोनेशिया को कृषि उपज निर्यात करने पर विचार चल रहा है। चीनी का भी निर्यात किया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान की प्रशंसा करते हुए उन्होंने कहा कि वे गांव, गरीब, किसान, मजदूर के लिए योजनाएं बनाकर अंत्योदय की राह पर काम कर रहे हैं।

तो हार जाएंगे 3 सांसद, 25 विधायक

उन्होंने बताया कि वे स्वयं 3 चीनी मिलें चला रहे हैं और तीनों घाटे में चल रही हैं, लेकिन इन्हें बंद नहीं कर सकते। यदि इन्हें बंद कर दिया जाए तो 3 सांसद और 25 विधायक चुनाव हार जाएंगे। इस घाटे से उबरने हम इथेनाल बनाते हैं। हमने इससे चलने वाले ऑटो और बाइक कंपनियों से बनवाए। इससे हम पेट्रोल-डीजल के आयात पर होने वाले खर्च में भी कटौती कर सकते हैं। अकेले इस काम पर हमारे 7 लाख करोड़ रुपए खर्च होते हैं। उन्होंने कहा कि हमारी योजनाएं सभी गरीबों के लिए हैं। हम गांवों को समृद्ध बनाएंगे। युवाओं के पास रोजगार होगा।