छिंदवाड़ा। ट्रेन में चलने वाले यात्रियों का सामान अचानक चलती ट्रेन से चोरी होने की वारदातें बढ़ती जा रही है। जिसको लेकर पुलिस हमेशा परेशान रहती है। लेकिन बीती रात कोतवाली पुलिस को उस समय सफलता मिली जब पुलिस ने कुछ संदिग्धों को हिरासत में लिया और पूछताछ की तो आरोपियों ने ट्रेन में चोरी करने की बात कबूली। पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार करने के बाद उनके पास से चोरी की सामग्री जब्त की।

कोतवाली थाना प्रभारी सुमेर सिंह जगेत ने बताया कि बीती रात बस स्टैंड में एएसआई राघवेन्द्र उपाध्याय सहित प्रधान आरक्षक हिम्मत सिंह एवं आरक्षक अनिल द्वारा भ्रमण किया जा रहा था। भ्रमण के दौरान चार युवक संदिग्ध अवस्था में घूमते हुए दिखाई दिए। जिन्हें पुलिस ने बुलाकर पूछताछ करने का प्रयास किया तो संदिग्ध युवक पुलिस को देखकर भागने लगे। पुलिस ने चारों आरोपियों का पीछा करते हुए उन्हें पकड़ा। इस मामले में आरोपियों को कोतवाली पुलिस लाकर कड़ाई से पूछताछ की गई तो आरोपियों ने ट्रेन में चोरी की वारदात को अंजाम देने की बात कबूली। पुलिस ने इस मामले में आरोपियों के खिलाफ चोरी सहित अन्य धाराओं के तहत अपराध कायम कर जांच शुरू कर दी।

पुलिस गिरफ्त में आए गिरोह के सदस्य

टीआई श्री जगेत ने बताया कि सोलापुर जिले के सैलगांव निवासी अजय पिता दुर्योधन दगडे उम्र 19 साल, कुरूदवाड़ी निवासी अनिल पिता दशरथ डिकोड उम्र 32 साल, सचिन पिता भीमराव डिकोड उम्र 32 साल और भारत पिता बापू डिकोडे उम्र 32 साल को पुलिस ने बीती रात बस स्टेड के पास से गिरफ्तार किया है। जो पुलिस को देखकर भाग रहे थे।

आरोपियों से जब्त हुआ 6 लाख से अधिक का सामान

पुलिस के अनुसार संदिग्ध अवस्था में बस स्टेड में घूम रहे आरोपियों को जैसे ही पुलिस ने देखी तो आरोपी मौका पाकर भागने लगे। इस बीच पुलिस ने पीछा कर आरोपियों को पकड़ा तो उनके पास रखे बैंग से एक सोने की 200 ग्राम वजनी सिल्ली करीब 6 लाख 20 हजार, नगद राशि 43 हजार रुपए पुलिस ने जब्त किया। पुलिस अन्य सामग्री की पतासाजी कर रही है।

पुलिस ने औजार भी किए जब्त

इस मामले में पुलिस ने बताया कि रात में जब सारे यात्री ट्रेन में सो जाते थे, जब उनके पास मौजूद कटर सहित अन्य औजारों के माध्यम से बैंग, सूटकेस को पार कर देते थे। इसके बाद आने वाले स्टेशन में उतार जाते थे। इसके अलावा दिन में भी मौका पाकर अधिक भीड़ होने का फायदा उठाकर वारदात को अंजाम दे देते थे।