स्टाफ सिलेक्शन कमिशन (एसएससी) की कंबाइंड ग्रेजुएट लेवल (सीजीएल) टीयर-1 एग्जाम ग्रेजुएट्स के लिए श्रेष्ठ विकल्प है। बस, थोड़ी-सी मेहनत और सही रणनीति के साथ इस परीक्षा को आसानी से क्लीयर कर केंद्र सरकार में आप बेहतर पद के हकदार बन सकते हैं। इस परीक्षा में सभी विषयों की अपनी अहमियत है। ज्यादातर विद्यार्थी अपने प्रिय विषय पर ज्यादा फोकस करते हैं, जिससे बाकी विषयों पर उनकी पकड़ कमजोर पड़ जाती है। इससे बचने के लिए हर विषय पर बराबरी से ध्यान देने की जरूरत है। बेहतर होगा कि आप आसान से टफ टॉपिक की ओर बढ़ें। इससे आपका आत्मविश्वास भी बढ़ेगा।

जनरल इंटेलीजेंस एंड रीजनिंग

- यह सेक्शन उम्मीदवारों के लिए काफी स्कोरिंग होता है, इसीलिए इसके टॉपिक्स पर ज्यादा फोकस करें। इसमें वर्बल और नॉन-वर्बल दोनों पर आधारित प्रश्न पूछे जाते हैं।

- रीजनिंग के प्रश्न, एप्टीट्यूड की अपेक्षा कम समय लेते हैं। अगर आपने प्रैक्टिस कर ली है, तो इसमें अच्छे मार्क्स पा सकते हैंं।

- इस सेक्शन में एकाग्रता की बहुत जरूरत होती है। अगर जरा भी ध्यान भटका, तो मार्क्स का बहुत नुकसान हो सकता है।

- जनरल इंटेलीजेंस और रीजनिंग का यह पार्ट मेरिट बनाने में बहुत अहम भूमिका निभाता है। इसलिए इस पार्ट को बहुत अच्छे से तैयार करें। इन पर करें फोकस: इस सेक्शन में कई महत्वपूर्ण टॉपिक्स हैं, जैसे सीमेंटिक एनालॉजी, सिंबॉलिक या नंबर एनालॉजी, सीमेंटिक क्लासिफिकेशन, वेन डायग्राम, सिंबॉलिक नंबर क्लासिफिकेशन, सीमेंटिक सिरीज, फिगरल पैटर्न, फोल्डिंग एंड कंप्लीशन, मिरर इमेज, वॉटर इमेजेस, नंबर सिरीज, कोडिंग एंड डिकोडिंग, प्रॉब्लम सॉल्विंग।

इंग्लिश लैंग्वेज

- एसएससी का यह दूसरा स्कोरिंग पार्ट है। इसके लिए अपनी वोकैबुलरी को अच्छा बनाएं और रीडिंग स्पीड बढ़ाएं।

- ज्यादा-से-ज्यादा प्रैक्टिस सेट्स सॉल्व करें। इससे आपका आत्मविश्वास बढ़ेगा।

- विद्यार्थी इस पार्ट को काफी टफ समझते हैं लेकिन यह पार्ट टाइम टेकिंग नहीं होगा यदि आप सही प्रैक्टिस करें।

इन पर करें फोकस: इंग्लिश में कुछ ऐसे टॉपिक्स हैं, जिन पर फोकस करके आप बेहतर मार्क्स पा सकते हैं, जैसे- स्पॉट द एरर, फिल इन द ब्लैंक्स, मिसस्पेल्ट वर्ड्स, ईडियम्स एंड फ्रेजेज, वन वर्ड सब्स्टीट्यूशन, क्लोज पैसेज, कॉम्प्रिहेंशन और एक्टिव एंड पैसिव वॉइस।

क्वॉन्टिटेटिव एप्टिट्यूड

- यह ऐसा सेक्शन है, जो उम्मीदवार के मार्क्स बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

- इस सेक्शन को सॉल्व करने के लिए सबसे जरूरी है समय की बचत करना, क्योंकि मैथ्स एक ऐसा सेक्शन है, जो समय बहुत लेता है। अगर आपके पास शार्ट ट्रिक्स हैं, तो आप कम समय में पेपर सॉल्व कर सकते हैं।

- मैथ्स में किसी भी सेक्शन को कम न आंकें। जितनी प्रैक्टिस आप कर सकते हों, करें। मैथ्स सिर्फ और सिर्फ प्रैक्टिस मांगता है।

- मैथ्स में जिन टॉपिक्स पर कमांड हो, उनकी प्रैक्टिस पहले करें, फिर उन टॉपिक्स को उठाएं, जिन पर कमांड कम है।

- प्रैक्टिस सेट सॉल्व करने में जिस प्रश्न में दिक्कत आ रही हो, उसे तुरंत अपने टीचर से डिस्कस करें।

इन पर करें फोकस: मैथ्स के इन सेक्शंस पर फोकस करके आप परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन कर पाएंगे- डेसिमल एंड फ्रैक्शंस, रिलेशनशिप बिट्वीन नंबर्स, परसेंटेज, रेशियो एंड प्रपोर्शन, स्क्वेयर रूट, ऐवरेज, प्रॉफिट एंड लॉस, टाइम एंड डिस्टेंस, टाइम एंड वर्क, यूज ऑफ टेबल्स एंड ग्राफ्स, हिस्टोग्राम, फ्रीक्वेंसी पॉलीगन, बार डायग्राम, पाई-चार्ट, सिंपल इंट्रेस्ट एंड कंपाउंड इंट्रेस्ट।

जनरल अवेयरनेस

- यह पार्ट काफी बड़ा है। इसमें जीवन के हर पहलू से जुड़े प्रश्न पूछे जा सकते हैं।

- आजकल एसएससी में जनरल साइंस से जुड़े काफी प्रश्न पूछे जाते हैं।

- उम्मीदवार को हिस्ट्री, ज्योग्राफी, पॉलिटी, इकोनॉमी और करंट अफेयर्स से जुड़े टॉपिक्स पर ज्यादा फोकस करना चाहिए।

- एसएससी में करंट अफेयर्स से जुड़े प्रश्न कम पूछे जाते हैं, पर इसका मतलब यह नहीं कि आप केयरलेस हो जाएं। करंट अफेयर्स की भी पर्याप्त तैयारी करें।

इन पर करें फोकस: जीए में इन टॉपिक्स पर विशेष ध्यान दें: हिस्ट्री, ज्योग्राफी, पॉलिटी, इकोनॉमी, करंट अफेयर्स व जनरल साइंस।

टारगेट टीयर-1

नि‍यमित रूप से अखबार पढ़ने से न सिर्फ आपकी रीडिंग स्किल व स्पीड बढ़ेगी, बल्कि आपका सामान्य ज्ञान भी बढ़ेगा।

- पढ़ाई का एक टाइम-टेबल बनाएं और उसका पालन करें।

- टॉपिक-वाइज पढ़ाई करें। ऐसा करने से पता चलेगा कि किन टॉपिक्स पर आपको काम करना रह गया है।

- टाइम मैनेजमेंट का बहुत ध्यान रखें। इससे आप तय समय में पेपर हल कर पाएंगे।

- परीक्षा के ठीक 3 दिन पहले आप जितना रिवाइज कर सकते हैं, करें। बस, रात को जागकर पढ़ाई न करें।

- आसान सेक्शन को पहले हल करें।

- प्रतिदिन मॉक-टेस्ट पेपर सॉल्व करें। इससे आपकी पेपर सॉल्व करने की स्पीड मेंटेन रहेगी।