औरंगाबाद। जमानत पर छूटे हत्या के एक आरोपी ने 29 साल की महिला से दुष्कर्म करने की कोशिश की लेकिन अपनी सूझबूझ से वह बच निकली। राजनगर के पास विधवा महिला के साथ गलत काम करना चाहा लेकिन महिला ने यह कह दिया कि वह एचआईवी पॉजिटिव है। वह संक्रमित न हो जाए इस डर से वह भाग गया लेकिन कुछ दिनों में ही पुलिस ने उसे पकड़ लिया।

मुकुंदवाड़ी क्षेत्र में राजनगर का रहने वाला 22 साल का किशोर विलास को पहले अपने पिता की हत्या के जुर्म में गिरफ्तार किया गया था।

25 मार्च की रात को MIDC वालुज की रहने वाली महिला अपनी सात साल की बेटी के साथ शहर में कुछ खरीदारी करने आई थी। जब वह घर लौट रही है तब उसे ध्यान आया कि उसके पास केवल 10 रुपए है। उसने कोशिश की कि उसे ऑटो में शेयरिंग में सीट मिल जाए लेकिन ऐसा नहीं हो पाया। तब वह शाहनोर्मिया दरगाह पर लिफ्ट मांगने के लिए बेटी के साथ खड़ी हो गई।

उस दौरान किशोर अपनी बाइक से वहां गुजरा और महिला को उसकी बेटी के साथ घर छोड़ने के लिए लिफ्ट दी। लेकिन राजनगर के नाले के पास पहुंचा और महिला को धारदार हथियार के साथ धमकाने लगा और दुष्कर्म की कोशिश की। महिला ने उस स्थिति से बचने के लिए यह कह दिया कि वह एचआईवी पॉजिटिव है जिसके बाद किशोर उस जगह से चलता बना।

असिस्टेंट इंस्पेक्टर श्रद्धा वेदन्दे ने कहा कि महिला ने पुलिस से संपर्क किया और किशोर के खिलाफ अपहरण व छेड़खानी का मामला दर्ज किया। महिला द्वारा बताई गई जानकारी के मुताबिक आरोपी का स्केच तैयार किया गया। महिला ने पुलिस को बताया था कि आरोपी के हाथ में कई निशान और टैटूज भी थे। उस हूलिए की तलाश करते हुए पुलिस ने कुछ दिन में ही किशोर को पकड़ लिया।