मुंबई (राज्य ब्यूरो)। मुंबई में गुरुवार को गिरे फुटओवर ब्रिज के जिम्मेदार दो अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया है। दो सेवानिवृत अधिकारियों पर भी कार्रवाई के आदेश महानगरपालिका आयुक्त ने दे दिए हैं।

गुरुवार शाम हुई इस दुर्घटना में छह लोग मारे गए हैं और 38 घायल हुए हैं। शुक्रवार की सुबह घायलों से मिलने अस्पताल पहुंचे मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने निर्देश दिया था कि इस दुर्घटना की उच्चस्तरीय जांच तो होगी ही, लेकिन शुक्रवार शाम तक प्रथमदृष्टया दोषियों पर कार्रवाई होनी चाहिए।

संभवतः इसी निर्देश के फलस्वरूप बीएमसी आयुक्त अजोय मेहता ने महापालिका दक्षता विभाग के मुख्य कार्यकारी अभियंता ए.आर.पाटिल एवं सहायक अभियंता एस.एफ.काकुलते को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। इसके अलावा सेवानिवृत्त मुख्य अभियंता (पूल व्यवस्था) एस.ओ.कोरी एवं उपमुख्य अभियंता आर.बी.तरे पर भी कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। इसके अलावा दुर्घटनाग्रस्त हुए पुल से संबंधित कागजों एवं उनकी जांच करनेवाले अधिकारियों के बारे में पड़ताल शुरू हो गई है।

गुरुवार शाम दक्षिण मुंबई के छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस को आजाद मैदान पुलिस स्टेशन की ओर जानेवाली गली से जोड़नेवाले करीब 50 मीटर लंबे पुल का स्लैब अचानक गिर जाने से कई लोग दब गए थे। करीब छह माह पहले ही इस पुल की जांच की गई थी। जांचकर्ताओं ने पुल को सिर्फ मामूली मरम्मत के योग्य माना था।

आज मुख्यमंत्री फड़नवीस ने कहा कि जिस पुल को सिर्फ मामूली मरम्मत के योग्य माना गया हो, उसका इस तरह ढह जाना अतिगंभीर मसला है। इसकी उच्चस्तरीय जांच की जानी चाहिए। लेकिन उससे पहले इसके जिम्मेदार लोगों की तत्काल जिम्मेदारी भी तय की जानी चाहिए। सरकार ने मृतकों के परिजनों को पांच लाख रुपये एवं घायलों को 50 हजार रुपये सहायता देने की घोषणा की है।