मुंबई। 5 साल की बच्ची टीवी नहीं देखने दे रही थी। मां को जब सीरियल देखने में बार-बार खलल पड़ा तो उसने बेटी को मोमबत्ती से जगह-जगह पर जला दिया। इस काम में चाची ने भी महिला का साथ दिया। पिता की शिकायत पर आरोपी मां और इस घटना में उसका साथ देने वाली चाची को गिरफ्तार कर लिया गया है। मामले की जांच कर रहे सीनियर इंस्पेक्टर सतीश गायकवाड़ ने बताया कि बच्ची के शरीर पर जलने के 20 निशान मिले हैं।

पुलिस के मुताबिक, सब्जी बेचने वाला 23 साल का घनश्याम यादव जब घर लौटा तो उसने अपनी बेटी के पेट, पीठ और गर्दन पर निशान देखे। जब जले हुए निशान देखकर पिता ने बेटे से पूछा तो उसने बताया कि मां और चाची ने यह सब किया है। पुलिस ने बताया कि मां अनीता घर पर टीवी सीरियल देख रही थी। उसकी पांच साल की बच्ची मस्ती कर रही थी जिससे मां को सीरियल देखने में परेशानी हो रही थी। मां ने बच्ची को शोर न करने के लिए कहा। उसे एक-दो बार समझाया, नहीं मानी तो जलती मोमबत्ती से उसे कई जगह जला दिया। आरोप है कि इस वारदात में बच्ची की चाची रिंकी ने भी अनीता का साथ दिया।

यादव के तीन बच्चे हैं जबकि उनके भाई के दो बच्चे हैं। भाई एक साथ रहते हैं और पीड़ित साक्षी उन बच्चों में सबसे बड़ी है। एक ही घर में पांच बच्चे होने से हमेशा घर में शोरशराबा रहता है। बुधवार को जब वह टीवी देख रही थी तब बच्चे खेल रहे थे। उसे डिस्टर्ब करने के परिणाम भुगतने और उन्हें इसके लिए सबके सिखाने के लिए जलती हुई मोमबत्ती साक्षी के शरीर पर दाग दी।