मुंबई। ओएनजीसी के पांच अधिकारियों और दो पायलटों के साथ उड़ान भरने वाला पवन हंस हेलीकॉप्टर तट से दूर समुद्र में गिर गया। तेल एवं प्राकृतिक गैस कारपोरेशन (ओएनजीसी) ने बताया है कि अभी तक पांच लोगों का शव बरामद कर लिया गया है। शेष लापता लोगों की तलाश की जा रही है। पवन हंस में सवार ओएनजीसी के सभी पांच अधिकारी डीजीएम स्तर के थे।

पांचों अधिकारियों के नाम सर्वानन, वीके बाबू, जोसे एंथोनी, पंकज गर्ग एवं पी. श्रीनिवासन हैं। सांताक्रूज हेलीबेस से 10:30 बजे रवाना हुए हेलीकॉप्टर के लापता होने की जानकारी मिलते ही ओएनजीसी, तट रक्षक और नौसेना के हेलीकॉप्टरों व स्पीड बोट तलाशी में जुट गए। पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमन से खोज में नौसेना एवं कोस्ट गार्ड हेलीकॉप्टर की मदद मांगी थी।

मुंबई तट के समीप ओएनजीसी का प्रमुख तेल एवं गैस क्षेत्र है। तट से करीब 160 किलोमीटर की दूरी पर स्थित तेल निकालने वाले केंद्र तक पवन हंस के हेलीकाप्टर से कंपनी के कर्मचारियों को ले जाया जाता है। यह पहली हेलीकॉप्टर दुर्घटना नहीं है। अगस्त 2003 में मुंबई के समीप एमआइ-172 दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। उस समय हेलीकॉप्टर में सवार कंपनी के कर्मचारी और पायलट सहित 27 लोग मारे गए थे।