मुंबई। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत ने राम मंदिर पर फिर से बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा, अयोध्या में अगर फिर से राम मंदिर का निर्माण नहीं हुआ तो हम अपनी संस्कृति की जड़ों से कट जाएंगे। भागवत ने यह बात मुंबई के नजदीक दहाणु में आयोजित विराट हिंदू सम्मेलन में कही।

सर संघचालक ने कहा, मुस्लिम समुदाय ने राम मंदिर नहीं तोड़ा। भारतीय लोग ऐसा कार्य नहीं कर सकते। विदेशी सेनाओं ने भारतीयों को अपमानित करने के लिए यह दुष्कृत्य किया था। लेकिन आज हम आजाद हैं। हमें अधिकार है कि हम अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण करें। वह सिर्फ मंदिर नहीं होगा बल्कि हमारी पहचान की निशानी होगा। अगर अयोध्या में राम मंदिर नहीं बना तो हम अपनी संस्कृति की जड़ों से कट जाएंगे। मंदिर के स्थान को लेकर कोई संदेह नहीं है। यह अपने मूलस्थान पर ही बनना चाहिए। मामला सुप्रीम कोर्ट में है, हमें वहां के फैसले का इंतजार है।

संघ प्रमुख ने हाल ही में जाति के नाम पर हुई हिंसा के लिए विपक्षी दलों को जिम्मेदार बताया। कहा कि जिनकी राजनीति की दुकानें बंद हो गई हैं, वे लोगों को जाति के नाम पर लड़ने के लिए भड़का रहे हैं। यह देश और समाज के हित में नहीं है। ऐसे राजनीतिक दलों से सभी को सतर्क रहने की जरूरत है।

राम मंदिर पर भागवत का यह महत्वपूर्ण बयान विश्व हिंदू परिषद के सांगठनिक चुनाव के एक दिन बाद आया है। माना जा रहा है कि संघ प्रमुख के बयान को दिशानिर्देश मानते हुए विहिप आने वाले दिनों में राम मंदिर के लिए जनजागरण पैदा करने वाले कार्यक्रम की घोषणा कर सकता है।