मुंबई। बहुत सारे लोग अनंत अंबानी की वजन घटाने के दावे पर शक कर रहे हैं। कुछ लोगों का कहना है कि कोई भी बिना सर्जरी के इतना वजन कम नहीं कर सकता है। मगर, सच्चाई यह इसके लिए एक लंबी और लगातार 18 महीने की मेहनत है।

अनंत अंबानी को प्रशिक्षित करने वाले ट्रेनर विनोद चानना अपने ने बताया कि मुझे अनंत की मेहनत पर गर्व है। उन्होंने उनकी कड़ी मेहनत और दृढ़ संकल्प को दिखाया। सर्जरी की अफवाहों के बारे में विनोद ने कहा कि अनंत मधुमेह और दमा के रोगी हैं। ऐसे में उनकी सर्जरी करना जोखिम भरा काम था।

अनंत की तरह के जो लोग अपने वजन की वजह से सीमित शारीरिक गतिविधियां कर पाते हैं, वे आमतौर पर व्यायाम के लिए समय बढ़ा सकते हैं। किसी व्यक्ति के लिए 208 किलो के वजन से 100 किलो के वजन को हासिल करना आसान नहीं लगता है। इसके लिए कड़ी मेहनत और बहुत समर्पण की जरूरत होती है।

'बंसल परिवार के सामने आत्महत्या ही एक मात्र विकल्प बचा था'

अनंत अंबानी के शारीरिक बदलाव में एक टीम ने काम किया। यह अकेले मेरे द्वारा नहीं किया गया था। अनंत और डॉ आंद्रे शिमोन ने अच्छी तरह का प्रयास किया। अपने करियर के 22 वर्षों में मैंने कभी किसी आदमी को इतने समर्पण के साथ मेहनत करते हुए नहीं देखा है।

अनंत ने योग, कार्डियो, स्ट्रेंथ और फंग्शनल ट्रेनिंग पर जोर दिया। पहले चरण के दौरान हमने उनके पोषण पर ध्यान दिया, जिसमें प्रोटीन, लो कार्बोहाइड्रेट, फाइबर आदि को शामिल किया गया। हमने 30 मिनट से दो घंटे तक की वॉकिंग से शुरुआत की, जो अनंत की क्षमता पर निर्भर करता था।

ओला ड्राइवर ने बंद दरवाजे में महिला को सिगरेट पीने के लिए किया मजबूर

आहार के बारे में विनोद ने कहा कि अनंत ने सख्त आहार रुटीन को अपनाया और दिन में केवल 1200 कैलोरी का भोजन ही किया। अपने आहार में उन्होंने सब्जियों, अंकुरित अनाज, पनीर, दाल और आधा चम्मच घी का सेवन ही किया।

विनोद ने कहा कि अब आप उस रहस्य के बारे में जानते हैं, जिसमें अनंत ने कोई जादू या सर्जरी के बिना कैसे वजन को कम किया। अब यह समय आप के लिए है। यदि आप भी मोटापे की समस्या से जूझ रहे हैं, तो तैयार हो जाएं और वर्क आउट से इससे निजात पा लें।