मुंबई। महाराष्ट्र सीआइडी ने गुरुवार को बांबे हाई कोर्ट को बताया कि वामपंथी नेता गोविंद पंसारे की हत्या मामले में कुछ और संदिग्धों की पहचान की है। लेकिन इनमें से किसी को गिरफ्तार नहीं किया जा सका है। हाई कोर्ट ने सीआइडी और सीबीआइ से कहा कि उन्हें आरोपियों से ज्यादा चालाक बनना पड़ेगा, क्योंकि यदि ऐसे अपराधों में सजा नहीं मिलती है तो अन्य अपराधियों का दुस्साहस बढ़ता है।

सीबीआइ ही गोविंद पंसारे और नरेंद्र दाभोलकर की हत्या मामले की जांच कर रही है। राज्य अपराध अन्वेषण विभाग (सीआइडी) की ओर से पेश अधिवक्ता अशोक मुंदार्गी ने हाई कोर्ट को एक सीलबंद लिफाफे में पंसारे मामले की प्रगति रिपोर्ट सौंपी।

उन्होंने कहा कि हालांकि आरोपियों के रूप में कुछ नए लोगों की पहचान हुई है, लेकिन जांच अधिकारियों को उन्हें ढूंढ़ने में परेशानी का सामना करना पड़ा, क्योंकि उनमें से कुछ ने अपने ठिकाने और फोन नंबर बदल दिए थे। उनमें से कुछ नई पहचान के साथ भी रह रहे थे।

सीबीआइ ने हाई कोर्ट को यह भी बताया कि दाभोलकर हत्याकांड में कई आरोपियों ने अपने फोन नंबर बदल लिए और अवैध रूप से नए मोबाइल नंबर हासिल किए हैं।