आजकल बच्चे जुगनू को किताबों में ही देखते हैं, कहानियों में सुनते हैं क्योंकि इन्हें देखना अब इतना आसान नहीं है। शहर में तो जुगनू देखने को मिलते ही नहीं, इसीलिए आज के शहरी बच्चों को जुगनुओं के बारे में कम ही पता है। लेकिन अगर आप जुगनू देखना चाहते हैं तो महाराष्ट्र के इस गांव में जाएं। यह गांव किसी परियों के देश सा लगता है। यहां लाखों की संख्या में जुगनू नजर आते हैं।

महाराष्ट्र के अहमदनगर के पुरुषवाड़ी गांव में जुगनुओं को देखने के लिए मेला भी लगता है। यह मेला जून-जुलाई में लगता है। ये गांव मुंबई से 220 किमी दूर है। यहां लाखों जुगनू रात में इकट्ठा होते हैं और गांव को अपनी रोशनी से जगमग कर देते हैं।

ग्रॉसरूट्स नाम की संस्था इस मेले की जिम्मेदारी लेती है। जुगनुओं के बीच इस गांव के झीलों और घाटियों के सुंदर नजारे का भी लुत्फ आप उठा सकते हैं।

इस मेले की जिम्मेदारी ग्रॉसरूट्स संस्था और इस गांव के लोगों के हाथों में रहती है। वे मेले में टेन्ट की व्यवस्था भी करते हैं ताकि आने वाले इसमें ठहर सकें। आप चाहे तो अपने रहने के लिए टेन्ट चुन सकते हैं या फिर चाहे तो गांव के ही किसी घर में रुक सकते हैं। इनके लिए खाना गांव की महिलाएं ही बनाती हैं।