नई दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय ने हैदराबाद में एक ज्वेलरी समूह के ठिकानों पर छापे मारकर 82 करोड़ रुपये मूल्य के 146 किलोग्राम सोने के गहने जब्त किए है। ज्वेलरी समूह पर नोटबंदी के बाद मनी लांड्रिंग का आरोप है।

प्रवर्तन निदेशालय ने गुरुवार को बताया कि पिछले कुछ दिनों में हैदराबाद व विजयवाड़ा में मुसद्दीलाल ज्वेलर्स, इसके प्रमोटर कैलाश गुप्ता, बालाजी गोल्ड और इसके साझीदार पवन अग्रवाल, आस्था लक्ष्मी गोल्ड और इसके मालिक नील सुंदर थरड तथा सीए संजय सारदा के ठिकानों पर छापे मारे गए। ईडी के अनुसार आरोपितों के ठिकानों पर छापों के दौरान 145.89 किलो सोने के गहने जब्त किए गए, जिसकी कीमत 82.11 करोड़ है।

ईडी के मुताबिक आठ नवंबर 2016 को नोटबंदी की घोषणा के कुछ घंटे के भीतर आरोपितों ने अपने बैंक खाते में अवैध रूप से 110.85 करोड़ रुपये जमा किए। उनका दावा था कि 5,200 खरीदारों ने उन्हें दो लाख रुपये से कम के एडवांस दिए। ईडी के मुताबिक ज्वेलर्स समूह के यह दावे फर्जी थे। दुकान और आसपास की सीसीटीवी फुटेज की जांच में कस्टमर नहीं दिखाई दिए। दो लाख रुपये से कम के एडवांस इसलिए दिखाए गए, ताकि खरीददारों के पैन नंबर न देना पड़े। बाद में 80 करोड़ रुपये के अवैध फंड को दूसरी कंपनियों के बैंक खातों में ट्रांसफर कर दिया गया।

ईडी के मुताबिक आरोपितों ने फर्जी बिक्री रसीद बनाने की बात स्वीकार कर ली है। वह अवैध राशि से कथित रूप से खरीदे गए 270 किलो सोने के उपयोग का हिसाब भी नहीं दे पाए हैं। तेलंगाना पुलिस और आयकर विभाग ने सभी आरोपितों पर नोटबंदी योजना के दुरुपयोग और अवैध तरीके से भारी मात्रा में बेनामी राशि अपने खाते में जमा करने के आरोप में केस दर्ज कर रखा है। इसी आधार पर ईडी ने आरोपितों के खिलाफ प्रिवेंशन आफ मनी लांड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) के तहत आपराधिक मुकदमा दर्ज किया है।