लखनऊ। जेट एयरवेज अपने बेड़े में 737 मैक्स श्रेणी के 150 नए विमानों को शामिल करेगा। यह विमान भारत में घरेलू और अंतरराष्ट्रीय रूटों पर भी इस्तेमाल होंगे। पहला विमान इसी महीने आ जाएगा, जबकि वर्ष 2025 तक सभी विमान बेड़े में शामिल हो जाएंगे। विमान में 174 यात्रियों के बैठने की क्षमता होगी।

जेट एयरवेज के डिप्टी सीईओ अमित अग्रवाल ने बताया कि कंपनी ने 25 साल पहले चार विमानों के साथ अपनी सेवाएं शुरू की थी। 1998 में कंपनी भारत में 72 सीटों वाला एटीआर लेकर आई थी। आज कंपनी के बेड़े में 119 विमान हैं। इसमें 72 सीटों वाले 18 एटीआर हैं, जबकि 168 सीटों की क्षमता वाले 737 बोइंग श्रेणी के 81 विमान हैं।

कंपनी के पास 254 और 292 यात्रियों के बैठने की क्षमता वाले 330 एयरबस के आठ विमान हैं। इसी तरह 346 सीटों वाले 777 बोइंग श्रेणी के 10 विमान हैं जो इंटरनेशनल रूट पर लंबी उड़ान पर रहते हैं। जेट एयरवेज अपनी पार्टनर कंपनी इत्तेहाद के साथ आबूधाबी होकर एक स्टाप लेकर दुनिया कनेक्ट कराती है।

यूरोप के नौ और यूएसए के छह शहरों तक जेट एयरवेज अपनी सेवा देता है। काठमांडू और आबूधाबी के अलावा बैंकाक, दुबई और लंदन जाना अब आसान हो गया है।

खाड़ी देशों में पहले दक्षिण भारत के लोग अधिक जाते थे, जबकि अब यूपी के लोगों की इमिग्रेशन सबसे अधिक होता है। विदेशी लोग भारत में निवेश करते समय यह जरूर देखते हैं कि जिस शहर में उनको जाना है वहां विमान कनेक्टिविटी कैसी है।