नई दिल्ली। सात महाद्वीपों की सात सबसे ऊंची चोटियों को फतह करने की मंशा से सात साल पहले गुडगांव की रहने वाली संगीता एस बहल ने शुरुआत की थी। 53 साल की उम्र में एवरेस्ट को फतह करने वाली वह भारत की सबसे उम्र दराज महिला बन गई हैं। इससे पहले साल 2011 में 48 साल की उम्र में प्रेम लता अग्रवाल ने यह रिकॉर्ड अपने नाम किया था। संगीता अब तक सात महाद्वीपों की सबसे ऊंची चोटियों में से छह को फतह कर चुकी हैं।

साल 1985 की पूर्व मिस इंडिया फाइनेलिस्ट रहीं संगीता ने पर्वतारोहण की शुरूआत 47 साल की उम्र से की थी। गुड़गांव में ‘इम्पैक्ट इमेज कंसल्टेंट’ नाम से कंपनी चलाने वाली संगीता मानती हैं कि किसी भी काम को करने के लिये उम्र कोई मायने नहीं रखती। बस जरूरत होती है उस काम को पूरा करने के लिये आत्मविश्वास और जुनून की।

वह अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी माउंट किलिमंजारो को साल 2011 में अपने पति अंकुल बहल के साथ फतह कर चुकी हैं। वह एवरेस्ट पर पिछले ही साल फतह हासिल कर लेतीं, लेकिन उनकी तबीयत खराब होने के कारण वहां से लौटना पड़ा था। हालांकि, अंकुर ने 19 मई 2016 को एवरेस्ट पर फतह हासिल कर ली थी। उन्होंने ही मुझे एवरेस्ट फतह करने के लिए प्रेरित किया।

चोटी पर पहुंचने के बाद लगा, मानों सपना पूरा हो गया है और मेरा बचपन एक बार फिर से लौट आया है। उन्होंने कहा कि पांच महाद्वीप की पांच चोटियों पर वह चढ़ चुकी हैं, लेकिन दुनिया की सबसे ऊंची चोटी पर पहुंचने के अनुभव सबसे शानदार था।

सबसे सस्‍ता पेट्रोल मिलता है इन देशों में, कीमत जानकर चौंक जाएंगे आप

संगीता ने 18 जुलाई 2013 में यूरोप की सबसे ऊंची चोटी (5642 मीटर) माउंट एल्ब्रस की चढ़ाई की थी। उसके बाद 18 जनवरी 2014 में अंटर्कटिका के माउंट विंसन पर चढ़ाई की, जो कि 16 हजार फीट ऊंची है। उसी साल संगीता और उनके पति अंकुर ने उत्तरी अमेरिका स्थित माउंट मैकिनले की चढ़ाई करने गए।

6190 मीटर की ऊंचाई पर स्थित माउंट मैकिनले को अंकुर बहल ने तो फतह कर लिया था, लेकिन यहां की चढ़ाई चढ़ते समय संगीता के दायें घुटने में चोट लग गई। इस वजह से उनको वापस लौटना पड़ा। इसके अगले साल संगीता ने दक्षिणी अमेरिका की सबसे ऊंची चोटी एकांकागुआ को फतह किया।

रेलवे ट्रैक पर नमाज से छूट गई स्टूडेंट्स की परीक्षा, जानें पूरी सच्चाई