करनाल। किसी ने सही कहा है कि पढ़ने और सीखने की कोई उम्र नहीं होती। 82 साल के जागीर सिंह इसी का एक उदाहरण हैं। वृद्धावस्था में व्यक्ति के हाथ कांपने लगते हैं लेकिन जागीर सिंह का जब्बा देखिये कि इस उम्र में उनकी कलम चल रही है। जुलाई 2019 सत्र की परीक्षा में धनौरा जागीर इंद्री के रहने वाले जागीर सिह ने इग्नू की बीए द्वितीय वर्ष की परीक्षा दी है।


जागीर सिह की बचपन से ही इच्छा थी कि वह बीए और एमए की डिग्री प्राप्त करें, लेकिन घरेलू मजबूरियों के चलते वह पढ़ाई को पूरा नहीं कर सके। 80 वर्ष की उम्र में उन्होंने इग्नू के बीपीपी कार्यक्रम के बारे में सुना और दाखिला ले लिया।

बीपीपी करने के बाद उन्होंने इग्नू की बीए प्रथम वर्ष में दाखिला लिया और वह अब द्वितीय वर्ष की परीक्षा दे रहे हैं। परीक्षा केंद्र अधीक्षक जुझार सिह ने बताया कि जागीर सिह पिछले सत्र में भी इसी हौसले के साथ परीक्षा में उपस्थित रहे थे। वह परीक्षार्थियों को इग्नू की ओर से चलाए गए कार्यक्रमों में दाखिले के लिए लगातार प्रेरित कर रहे हैं।