जम्मू। जम्मू-कश्मीर के दो दिवसीय दौरे पर लेह पहुंचे रक्षामंत्री मनोहर पार्रिकर ने सुरक्षा हालात का जायजा लेने के साथ चीन व पाकिस्तान से लगती सीमाओं की सुरक्षा सुनिश्चित कर रहे जवानों का उत्साह बढ़ाया।

वहीं, रक्षामंत्री व योगगुरु बाबा रामदेव की मौजूदगी में डीआरडीओ (रक्षा अनुसंधान व विकास संगठन) व पतंजलि योगपीठ के बीच कुछ खाद्य पदार्थों व हर्बल उत्पाद बनाने पर भी अनुबंध हुआ। रक्षामंत्री के साथ थल सेनाध्यक्ष जनरल दलबीर सिंह सुहाग, डीआरडीओ के महानिदेशक व कुछ वरिष्ठ अधिकारी भी आए।

रक्षामंत्री ने सैनिकों का हौसला बढ़ाते हुए लद्दाख जैसे दुर्गम इलाके में उनके योगदान की सराहना की। इसके साथ ही उन्हें विश्वास दिलाया कि उनके मसलों को दूर करने के लिए हर संभव कदम उठाए जाएंगे। जवानों को संबोधित करने के बाद 14 कोर मुख्यालय में रक्षामंत्री ने उच्च स्तरीय बैठक के दौरान चीन व पाकिस्तान से लगती सीमा पर सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए उठाए जा रहे कदमों, क्षेत्र की मुख्य चुनौतियां और उनसे निपटने की कार्रवाई के बारे में भी जानकारी हासिल की।

वहीं, लेह में हुए शोध का लाभ देशवासियों तक पहुंचाने के लिए डीआरडीओ व पतंजलि योगपीठ में रिसर्च साझा करने के साथ उत्पादन व बिक्री के लिए पतंजलि योगपीठ से अनुबंध किया गया है। यह अनुबंध सीबकथार्न (स्थानीय फल) सप्लीमेंट व आड़ू के जूस समेत पांच उत्पादों के लिए हुआ है।