पंचकूला। एक दिन पहले ही 14 साल का लड़का घर से गायब हुआ लेकिन दूसरे दिन उसका शव सेक्टर-28 में एक गड्ढे में मिला। इस बच्चे का सिर इस गड्‌ढे में धंसा था और उसके पैर ही बाहर दिख रहे थे। उस नजारे को देखकर लग रहा था कि किसी ने उसे गड्ढे में मारने की कोशिश की और जब तक जान नहीं चली गई तब तक उसे दबाए रखा। पहले पुलिस पहुंची तो नजारे को देखते हुए फॉरेंसिक एक्सपर्ट्स को बुलाया गया। रोज की तरह किसी को अंदाजा नहीं था कि घर से खेलने के लिए निकला बच्चा अब कभी भी घर नहीं लौट आएगा।

14 साल का यह पहाड़ी बच्चा सोमवार को घर से खेलने के लिए निकला था। शाम तक वह घर नहीं लौटा तो परिवार वालों ने सोचा कि वह किसी दोस्त के यहां होगा। लेकिन दिन ढलता गया और रात के 10 बजे गए लेकिन वह नहीं लौटा तो उसकी तलाश शुरू की गई लेकिन कुछ पता नहीं चल सका।

मंगलवार शाम को एक लड़का सड़क के किनारे टहल रहा था और उसने देखा कि कोई मिट्‌टी के अंदर दबा पड़ा है। उसने तुरंत पुलिस को बुलाया। पुलिस ने जेसीबी मंगवाई और गड्‌ढे से शव को बाहर निकाला। बच्चे के मुंह से खून निकल रहा था और उसके हाथों के पास मोबाइल फंसा था।

इस पूरे मामले को लेकर एसएचओ चंडीमंदिर महमूद खान ने बताया कि पहले तो इसे मर्डर माना जा रहा था, लेकिन फॉरेंसिक एक्सपर्ट के अनुसार उसकी मौत दम घुटने के कारण हुई है। हो सकता है कि वह इस गड्‌ढे में फंस गया हो और निकल नहीं पाया गो। लेकिन वह वहां क्या कर रहा था और गड्ढे के पास क्यों गया, ये सब सवाल खड़े होते हैं। हालांकि पोस्ट-मॉर्टम के बाद सारी बातें साफ हो जाएंगी। पुलिस मामले की जांच कर रही है।