नई दिल्ली। देश के कई बांधों में जलस्तर में गिरावट पर केंद्र सरकार ने आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, कर्नाटक, तेलंगाना और तमिलनाडु के लिए एक एडवाइजरी जारी की है। इसके मुताबिक इन राज्यों को सोच-समझकर पानी खर्च करने को कहा गया है। केंद्रीय जल आयोग (CWC) के सदस्य एसके हल्दर ने बताया कि केंद्र सरकार की ओर से तमिलनाडु को यह सलाह शुक्रवार को दी गई है और पिछले हफ्ते इसी तरह का सावधानी बरतने का पत्र महाराष्ट्र, तमिलनाडु, कर्नाटक, गुजरात, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना को भी भेजा गया है।

सूखे की एडवाइजरी केंद्र सरकार द्वारा राज्य को तब जारी की जाती है जब जल स्रोतों जैसे बांध, झील, तालाब आदि में पानी पिछले 10 सालों के जल संग्रह का 20 प्रतिशत से भी कम रह गया हो। दरअसल पानी राज्यों का विषय है। इस सलाह का मकसद यह होता है कि बांधों में पानी फिर से भरने तक लोग पानी का इस्तेमाल सिर्फ पीने के लिए करें। CWC देश के प्रमुख 91 जल स्रोतों की निगरानी करता है।

गुरुवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक देश में 35.99 अरब घन मीटर पानी का ही भंडारण शेष है। यह सभी जल स्रोतों के भंडारण की कुल क्षमता का 22 फीसदी ही है। 9 मई को यह 24 फीसदी था। लिहाजा, देश के पश्चिमी और दक्षिणी इलाकों में हालात खराब रहेंगे।