नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट के चार वरिष्ठ न्यायाधीशों द्वारा प्रेस कांफ्रेंस करने के एक दिन बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रधान सचिव नृपेंद्र मिश्र शनिवार को देश के प्रधान न्यायाधीश (सीजेआइ) से मिलने उनके आवास पर पहुंचे। समाचार चैनलों ने यह दृश्य प्रसारित किए हैं। इन दृश्यों के मुताबिक, नृपेंद्र मिश्र कार चलाकर देश के प्रधान न्यायाधीश जस्टिस दीपक मिश्रा के 5-कृष्णा मेनन मार्ग स्थित आधिकारिक आवास पर पहुंचे। उनके लिए आवास के गेट नहीं खोले गए। थोड़ी देर इंतजार करने के बाद प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव वापस चले गए।

कांग्रेस ने की आलोचना

समाचार चैनलों पर यह दृश्य प्रसारित होने के बाद कांग्रेस ने सरकार की आलोचना करने में देर नहीं की। पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इस बात का जवाब देना चाहिए कि प्रधान न्यायाधीश के पास विशेष संदेशवाहक क्यों भेजा गया।

रिश्वतखोरी और जज लोया की मौत के मामलों से बढ़ी तकरार!

4 जजों ने लगाए आरोप

बता दें कि एक अभूतपूर्व घटना में शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट के चार वरिष्ठ न्यायाधीशों ने मुख्य न्यायाधीश (सीजेआइ) दीपक मिश्रा के खिलाफ सार्वजनिक मोर्चा खोल दिया। आगाह किया कि संस्थान में सब कुछ ठीक नहीं है। स्थिति नहीं बदली तो संस्थान के साथ साथ लोकतंत्र भी खतरे में है। मीडिया के सामने आने के न्यायाधीशों के चौंकाने वाले फैसले ने न सिर्फ आंतरिक कलह को खोलकर सामने रख दिया है, बल्कि कानूनविदों को भी खेमे में बांट दिया।