कोलकाता। कोलकाता में कल भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान मचा बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। पश्चिम बंगाल भाजपा के अध्यक्ष राहुल सिन्हा ने कहा है कि उत्तर प्रदेश के सीएम योगी की आज कोलकाता में होने वाली रैली को निरस्त कर दिया गया है।

आज होने वाली रैली के लिए कल मंच तैयार किया जा रहा था मंच को मजदूर तैयार कर रहे थे, लेकिन उनको पीटा गया और मंच को तहस-नहस कर दिया गया। सीएम योगी की रैली निर्धारित समयानुसार आज दो बजे थी। मंच को फिर से तैयार नहीं किया जा सकता है इसलिए रैली निरस्त की जा रही है।

सीएम योगी ने ममता सरकार पर साधा निशाना

वहीं पश्चिम बंगाल के बारासात में उत्तर प्रदेश के सीएम योगी ने कहा कि ममता की सरकार दंगे भड़का रही है और इस सरकार के अब गिनती के दिन है। सीएम योगी ने कहा कि टीएमसी जिनको समर्थन कर रही है वही लोग मूर्ति पूजा को बिलकुल नहीं मानते हैं। टीएमसी के गुंडे मूर्तियों को खंडित कर रहे हैं, इन्होंने ही ईश्वरचंद विद्यासागर की मूर्ति को तोड़ा है ये लोग जय श्री राम के नारे पर भी रोक लगा रहे हैं, इनको दुर्गा पूजा और सरस्वती पूजा से तकलीफ है। मैंने यूपी में पूजा का समय नहीं बदला लेकिन मोहर्रम-ताजिया के जुलूस का समय बदलवा दिया था।

सीएम योगी ने ट्वीट कर कहा कि तानाशाहों तक यह संदेश पहुंचे कि राम इस देश के कण-कण में हैं, स्वतंत्रता इस देश की जीवनी-शक्ति है और मैं बंगाल के क्रांतिधर्मी युयुत्सु का आह्वान कर रहा हूँ। याचना नहीं, अब रण होगा।

प्रतिमा खंडित करने पर विभिन्न दलों ने दर्ज करवाया विरोध

आज भी विभिन्न राजनीतिक दलों का विरोध प्रदर्शन कल की घटना को लेकर जारी है। टीएमसी की छात्र इकाई ने कल अमित शाह के रोड शो के दौरान ईश्वरचंद विद्यासागर की प्रतिमा खंडित होने के मामले में मुंह पर काली पट्टी बांधकर विरोध दर्ज करवाया।

वहीं कोलकाता में CPIM ने ईश्वरचंद विद्यासागर की प्रतिमा खंडित होने विरोध में एक रैली निकाली। इस मौके पर CPIM के राष्ट्रीय सचिव सीताराम येचूरी ने कहा कि इस मामले की जांच की जाना चाहिए कि यह सब कैसे हुआ।

वहीं दिल्ली के जंतर-मंतर पर कोलकाता में कल हुई घटना के विरोध में भाजपा ने धरना दिया। धरने में केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन, जितेंद्र सिंह और विजय गोयल सहित कई बड़े नेता मौजूद थे।