भुवनेश्वर। बंगाल की खाड़ी में उठा चक्रवाती तूफान फेनी ओडिशा के तट से टकराने के बाद पुरी में तबाही मचाई है। इसके यहां पहुंचते ही हवा की रफ्तार 240 किमी प्रतिघंटे से ज्यादा हो गई है और भीषण बारिश हुई है। तूफान की तबाही का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि सड़कों पर कुछ भी नजर नहीं आ रहा था।

अब तक इस तूफान की वजह से 5 लोगों के मारे जाने की सूचना है। केंद्र सरकार के गृह मंत्रालय ने 1938 हेल्पलाइन नंबर जारी किया है वहीं ओडिशा में इमरजेंसी नंबर 06742534177 जारी किया गया है।

मौसम विभाग के अनुसार धीरे-धीरे यह तूफान पश्चिम बंगाल की तरफ बढ़ रहा है और बंगाल पहुंचते समय हवाओं की रफ्तार 100 किमी प्रतिघंटे से ज्यादा होगी। बंगाल के अलावा उत्तर प्रदेश, बिहार समेत अन्य राज्यों में भी तूफान का असर नजर आ रहा है।

Live Update

- तूफान कम होने के बाद भारतीय कोस्ट गार्ड्स ने राहत सामग्री पहुंचाने की तैयारी कर ली है।

- फेनी ने भुवनेश्वर में हाहाकार मचाया है और सैकड़ों पेड़ उखड़ गए हैं। वहीं अब तक दो लोगों के मारे जाने की सूचना है।

- तूफान के चलते पुरी में तबाही का तांडव जारी है और जो वीडियो हैं वो डराने वाले हैं।

- ओडिशा के केंद्रपाड़ा में अब तक एक बुजुर्ग की मौत की खबर है। बुजुर्ग की मौत दिल का दौरा पड़ने से हुई है।

- मौसम विभाग के अनुसार आंध्र प्रदेश पर से तूफान का खतरा अब टल गया है।

- अगले तीन घंटे में यह कमजोर होगा और हवाओं की रफ्तार 150-160 किमी प्रतिघंटा हो जाएगी।

- पुरी में तूफान की वजह से चर रही हवाओं के वीडियो लगातार सामने आ रहे हैं और इन्हें देखकर आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे।

- फेनी अगले कुछ घंटों में पश्चिम बंगाल पहुंचेगा और उससे पहले ममता बनर्जी ने अपनी सारी रैलियां स्थगित कर दी हैं वहीं वो खुद खड़गपुर में रहकर स्थिति पर नजर रखेंगी।

- तूफान के चलते ओडिशा के भद्रक में समुद्री लहरें ऊंची उठ रही हैं।

- आंध्र प्रदेश में तूफान के चलते तबाही हुई है और तेज हवाई के कारण कईं इमारतों को नुकसान पहुंचा है।

- हैदराबाद मौसम विभाग के अनुसार ओडिशा में भीषण बारिश के साथ 240 किमी प्रतिघंटे तक की हवाएं चल रही हैं। धीरे-धीरे यह कम होगा और तूफान पश्चिम बंगाल की तरफ बढ़ेगा।

- तूफान को लेकर नेवी ने 13 एयरक्राफ्ट विशाखापट्टनम में स्टैंडबाय पर रखे हैं ताकि तूफान से हुए नुकसान का आंकलन किया जा सके।

- तूफान को देखते हुए राज्य सरकार ने अलग-अलग शहरों के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं।

- चक्रवात का असर पश्चिम बंगाल और आंध्र प्रदेश में भी नजर आएगा और रात 8.30 बजे तक यह पश्चिम बंगाल पहुंच जाएगा।

- इसे देखते हुए पश्चिम बंगाल में भी अलर्ट जारी है और कोलकाता जाने वाली फ्लाइट्स रद्द कर दी गईं हैं। साथ ही सुबह 9 बजे से रात तक एयरपोर्ट भी बंद रहेगा।

- भीषण हवाएं अपने साथ सबकुछ उड़ाकर ले जा रही हैं.

- पुरी के तट से टकराने के बाद शहर में भीषण बारिश और तूफानी हवाएं चल रही हैं।

- समुद्र भी अशांत है।

- फेनी के कारण आंध्र प्रदेश में भी बारिश हो रही है और समुद्र अशांत है।

- चक्रवात फेनी ओडिशा के पुरी शहर पहुंच चुका है।

- राज्य मौसम विभाग के डायरेक्टर एचआर बिस्वास के अनुसार चक्रवात फेनी के ओडिशा के तट से टकराने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है और 8-11 बजे के बीच यह ओडिशा पहुंच जाएगा।

- फोनी का असर ओडिशा के अलावा पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश, असम, उत्तराखंड समेत कईं राज्यों में नजर आने वाला है।

- मौसम विभाग द्वारा जारी अलर्ट के अनुसार Fani पुरी से 80 किमी दूर है और आज दोपहर तक गोपालपुर के पास कट से टकरा सकता है। इसके बाद यह उत्तर-पश्चिम की तरफ आगे बढ़ेगा और संभवतः 4 मई की सुबह बांग्लादेश पहुंच सकता है।

- ओडिशा पहुंचने पर यहां भीषण बारिश हो सकती है और हवाओं की रफ्तार 200-230 किमी प्रतिघंटा होने की आशंका है। हालांकि, जैसे-जैसे यह आगे बढ़ेगा वैसे-वैसे इसकी ताकत कम होती जाएगी।

- विभाग ने कहा है कि फेनी तूफान 16 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से आगे बढ़ रहा है। यह आज दोपहर तक ओडिशा और चांदबली के बीच तट से टकराएगा और उसके तट से टकराने की प्रक्रिया दोपहर बाद तक चल सकती है।

- तूफान की सारी तैयारियां कर ली गईं हैं और लोगों को भी सुरक्षित स्थानों तक पहुंचा दिया गया है। मुख्यमंत्री कार्यालय के अनुसार तूफान से प्रभावित होनने वाले इलाकों से करीब 10 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा गया है।

- गंजम और पुरी से ही 3 लाख और 1.3 लाख लोगों को निकाला गया है। वहीं शरणार्थी स्थलों पर लोगों के लिए 5000 से ज्यादा किचन बनाए गए हैं।

- साइक्लोन फानी के गृह मंत्रालय ने कंट्रोल रूम का नंबर जारी किया है जो 1938 है। वहीं साउथ बंगाल स्टेट ट्रांसपोर्ट कर्पोरेशन ने अपनी 50 बसें दिघा में लगाईं हैं ताकी वहां से पर्यटकों को निकाला जा सके।

- ओडिशा में फिलहाल बहुत तेज बारिश हो रही है और भीषण हवाएं भी चल रही हैं।

- तूफान का असर कोलकाता में भी नजर आ रहा है।

- रेलवे ने रद्द की 10 और ट्रेनें

रेलवे ने आज 10 और ट्रेनें रद्द की हैं इनमें से आज 7 ट्रेनें रद्द रहेंगी वहीं 4 मई को एक जबकि 6 और 7 मई को भी एक-एक ट्रेन रद्द होगी।

1999 के सुपर साइक्लोन से मारे गए थे 10 हजार

फेनी 1999 में आए सुपर साइक्लोन के बाद से सबसे भीषण तूफान है। संयुक्त तूफान चेतावनी केंद्र (जेडब्ल्यूटीसी) के अनुसार तब ओडिशा में करीब 10 हजार लोग मारे गए थे और भारी तबाही हुई थी।

पीएम ने दिए राज्यों से सतत संपर्क कर मदद के निर्देश

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को उच्च स्तरीय बैठक कर तूफान से निपटने की तैयारियों की समीक्षा की। उन्होंने अफसरों को निर्देश दिया कि वे प्रभावित होने वाले राज्यों के सतत संपर्क में रहें और तत्काल मदद मुहैया कराएं। बैठक में कैबिनेट सचिव, पीएम के प्रमुख सचिव, पीएम के अतिरिक्त प्रमुख सचिव, गृह सचिव व मौसम विभाग, एनडीआरएफ, एनडीएमए व पीएमओ के वरिष्ठ अफसर मौजूद थे।

एनडीआरएफ के 4000 जवान तैनात

हालात से निपटने के लिए तीनों राज्यों में राष्ट्रीय आपदा राहत बल (एनडीआरएफ) की 81 टीमों को तैनात कर दिया गया है। इनमें 4000 से ज्यादा जवान हैं। एनडीआरएफ के महानिदेशक एसएन प्रधान ने बताया कि करीब 50 टीमें ओडिशा, आंध्र व बंगाल के तटीय इलाकों में पहले से तैनात कर दी गई हैं। 31 अन्य टीमों को तैयार रखा गया है। चूंकि तूफान पुरी के तट से टकराएगा, इसलिए वहां सर्वाधिक 28 टीमें तैनात की गई हैं। आंध्र में 12 और बंगाल में छह टीमें तैनात की गई हैं।