नई दिल्ली। टीवी पर‍ दिखाए जाने वाले रियलिटी शो को लेकर अब सरकार ने संज्ञान लेना शुरू कर दिया है। सरकार ने चैनलों को हिदायत दी है कि वे बच्‍चों को गलत ढंग से पेश ना करें।

सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने निजी टीवी चैनलों को डांस रियलिटी शो में बच्चों को अनुचित तरीके से दिखाने से बचने की सलाह दी है। मंत्रालय ने आधिकारिक बयान में कहा है कि इस तरह के कार्यक्रमों के प्रसारण से बच्चों पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है।

मंत्रालय ने नोटिस किया है कि डांस आधारित रियलिटी टीवी शो में छोटे बच्चों की नृत्य की जो मुद्राएं दिखाई जाती हैं वह मूलरूप से फिल्मों में वयस्क कलाकारों द्वारा की जाती हैं।

सूचना और प्रसारण मंत्रालय द्वारा जारी एडवाइजरी में कहा गया है कि सभी निजी टीवी चैनलों से उम्मीद है कि वे केबल टेलीविजन नेटवर्क (विनियमन) अधिनियम 1995 के तहत निर्धारित कार्यक्रम और विज्ञापन संहिता का पालन करें।

एडवाइजरी में यह भी कहा गया है कि बच्चों को बदनाम करने वाले कार्यक्रमों का टीवी पर प्रसारण नहीं होना चाहिए। बच्चों के लिए बने कार्यक्रमों में भाषा या हिंसा के दृश्य भी नहीं होने चाहिए।